Important news - एआई की मदद से अनुवांशिकी को बदलने की कोशिश, पढ़िए क्या फायदा होगा

पृथ्वी पर जीवन के लिए और विशेष रूप से मानव जाति के लिए Genetics एक महत्वपूर्ण मुद्दा रहा है। वैज्ञानिक लगातार Genetics में बदलाव करने की कोशिश कर रहे हैं। यदि ऐसा हुआ तो माता-पिता की बीमारियों से बच्चों को बचाया जा सके। यहां तक कि पूर्वजों के अवगुणों से भी संतानों को बचाया जा सकेगा। इसके विकास का तीसरा कदम यह हो सकता है कि, बच्चों के जन्म से पहले निर्धारित किया जा सकेगा कि वह डॉक्टर बनेगा या इंजीनियर। 

Genetics को समझने और बदलने में AI कमाल करेगा

William Herring, vice president, R&D, Cobb का कहना है कि AI यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से अनुवांशिकी को ठीक प्रकार से समझा जा सकता है और उसमें बदलाव के लिए काम किया जा सकता है। विलियम हेरिंग का कहना है कि AI और एल्गोरिदम्स के विकास के कारण हम अब उन चीजों को भी माप सकते हैं, जो पहले संभव नहीं थी। उदाहरण के लिए ब्रायलर मुर्गी की अनुवांशिकी को समझने और उसे ठीक करने का प्रयास किया जा सकता है और इसकी सफलता की संभावना काफी अधिक हो गई है। 

Genetics में बदलाव करने से क्या फायदा होगा

अनुवांशिकी में बदलाव करने से कई प्रकार के फायदे होंगे। एक तरफ मानव जाति की कई समस्याओं को दूर किया जा सकेगा तो दूसरी तरफ पूरी पृथ्वी को मनुष्यों के लिए ज्यादा उपयोगी और अनुकूल बनाया जा सकेगा। 
  1. मनुष्य का आईक्यू बढ़ाया जा सकेगा। 
  2. मनुष्य की बौद्धिक क्षमता बढ़ाई जा सकेगी। 
  3. मनुष्य की मेमोरी बढ़ाई जा सकी। 
  4. मनुष्य की शारीरिक क्षमताओं में परिवर्तन किया जा सकेगा। 
  5. यहां तक कि मनुष्य की वृद्धावस्था की प्रक्रिया को स्लो किया जा सकेगा। इससे मनुष्य की आयु बढ़ जाएगी। 
  6. अनुवांशिक रोगों का इलाज किया जा सकेगा और जन्म लेने से पहले यह सुनिश्चित किया जा सके कि बच्चों में अनुवांशिक समस्या नहीं हो। 
  7. सिकल सेल एनीमिया, हंटिंगटन रोग और सिस्टिक फाइब्रोसिस जैसी बीमारियों का इलाज संभव हो जाएगा। 
  8. कैंसर जैसी बीमारी का आसानी से इलाज किया जा सकेगा। 
  9. मनुष्य को संक्रामक रोगों से बचाया जा सकेगा। 
  10. मलेरिया से लेकर एचआईवी एड्स जैसे संक्रामक रोगों का इलाज किया जा सकेगा। 

What are the benefits of Genetic Engineering with  AI 

  1. फसलों की उपज और उनके अंदर Nutritional Value को बढ़ाया जा सकेगा। 
  2. ऐसी फसलों का विकास किया जा सकेगा जो सूखा और बाढ़ से प्रभावित नहीं होगी। 
  3. कीटनाशक की जरूरत नहीं होगी, पौधे के अंदर कीटों की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो जाएगी। 
  4. ऐसे जीव जंतु और पौधों को विकसित किया जा सकेगा जो प्रदूषण को कम करेंगे। 
  5. पृथ्वी पर लुप्त होती प्रजातियों की रक्षा की जा सकेगी और पारिस्थितिक तंत्र को बहाल किया जा सकेगा। 

विनम्र निवेदन🙏कृपया हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। सबसे तेज अपडेट प्राप्त करने के लिए टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें एवं हमारे व्हाट्सएप कम्युनिटी ज्वॉइन करें। इन सबकी डायरेक्ट लिंक नीचे स्क्रॉल करने पर मिल जाएंगी। महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय समाचार पढ़ने के लिए कृपया स्क्रॉल करके सबसे नीचे POPULAR Category में International पर क्लिक करें। सामान्य ज्ञान और महत्वपूर्ण जानकारी के लिए कृपया स्क्रॉल करके सबसे नीचे POPULAR Category में knowledge पर क्लिक करें।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !