GWALIOR NEWS - पड़ाव थाना क्षेत्र में फिर बाहरी लड़की का बलात्कार, कहानी कॉमन, पात्र और स्थान बदले

ग्वालियर जिले का पड़ाव थाना, बलात्कार के मामलों के लिए पहचाने जाने लगा है। यहां दर्द होने वाले कई बलात्कार के मामले बिल्कुल एक पैटर्न के होते हैं। केवल पीड़ित लड़की का नाम और घटनास्थल बदलता है। यहां बलात्कार की रिपोर्ट लिखने वाली ज्यादातर लड़कियां बाहरी होती है। एक बार फिर एक बाहरी लड़की ने बलात्कार का मामला दर्ज करवाया है। 

FIR रजिस्टर में दर्ज बलात्कार की कहानी

शिकायत करने वाली लड़की की उम्र 28 साल है। वह आगरा उत्तर प्रदेश की रहने वाली है। 25 जनवरी को अपनी बहन से मिलने के लिए आई थी। 29 जनवरी को अपनी बहन के पड़ोसी के साथ ग्वालियर घूमने के लिए चली गई। लौट कर वापस आई, और अपनी बहन के साथ पुलिस थाने पहुंची। यहां लड़की ने उसे लड़के के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज करवाया, जिसके साथ वह घूमने गई थी। लड़की ने दावा किया है कि रेलवे कॉलोनी स्थित होटल स्टे इन में उसके साथ बलात्कार किया गया। होटल के कमरे में कठोरतापूर्वक उसकी मर्जी के बिना उसके साथ फिजिकल रिलेशन बनाएं और फिर उसे वापस उसकी बहन के घर छोड़ दिया। पुलिस ने मामला दर्ज किया और लड़के को गिरफ्तार कर दिया है। 

कहानी कॉमन है, पात्र और स्थान बदलते हैं

यदि आप पड़ाव पुलिस थाना के FIR रजिस्टर चेक करेंगे तो पिछले कई सालों से बिल्कुल इसी कहानी के आधार पर कई मामले दर्ज किया जा चुके हैं। लड़की बाहर से आती है। किसी लड़के से मिलती है। फिर उसके साथ किसी होटल में चली जाती है। होटल कैसी सीसीटीवी कैमरे में लड़का और लड़की रिकॉर्ड होते हैं। लौटकर आते ही लड़की मामला दर्ज करवा देती है। इस प्रकार की ज्यादातर मामलों में कोर्ट में दोनों पक्षों के बीच समझौता हो जाता है। नोट करने वाली बात यह भी है कि पिछले कुछ सालों में पड़ाव पुलिस थाने में कई थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बदले लेकिन बलात्कार के मामलों का यह पैटर्न अब तक नहीं बदला है।

⇒ पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !