MP NEWS- बच्चे के लिए बाबा के जाल में फंसी 25 वर्षीय विवाहिता का 10 दिन रेप करवाकर मुक्त हुई

मध्य प्रदेश के ग्वालियर शहर की अशोक कॉलोनी थाटीपुर की रहने वाली एक 25 वर्षीय महिला संतान प्राप्ति की लालसा में एक ऐसे बाबा की जाल में फंस गई जिससे निकलना मुश्किल था। लगातार 10 दिन तक शारीरिक शोषण करने के बाद बड़ी मुश्किल से बाबा ने उसे मुक्त किया। बाबा के चंगुल से छूटते ही महिला सीधे अपने पति के पास और फिर दोनों पुलिस के पास पहुंचे। 

संतान प्राप्ति के लिए कई उपाय किए

शिकायतकर्ता महिला ने थाटीपुर पुलिस को बताया कि उसका पति प्राइवेट जॉब करता है। शादी को 5 साल हो गए हैं लेकिन कोई संतान नहीं है। इसके कारण डॉक्टर के अलावा, जिसने जो बताया वह करने लग गई थी। इसी प्रक्रिया में शीलू त्रिपाठी नाम का एक बाबा उसके संपर्क में आया। उसने दंपति को अपनी बातों से प्रभावित कर लिया और विश्वास दिलाया कि यदि उसके बताए उपाय किए जाएंगे तो संतान प्राप्त होगी। पति पत्नी दोनों बाबा की हर बात मानने लगे। बाबा ने पहले उन्हें अपने घर से अलग किया। किराए के घर में रहने के लिए कहा। 1 महीने तक रोज उनके घर आता रहा। 

विवाहित महिला का कहना है कि, दिनांक 13 सितंबर को संतान प्राप्ति का अंतिम उपाय बता कर उसे ग्वालियर से दिल्ली ले गया। यहां पर उसके साथ संबंध बनाए। फिर राजस्थान ले गया और फिजिकल रिलेशन बनाए। वापस दिल्ली लेकर आया और फिर से फिजिकल रिलेशन बनाए। यह सब कुछ 10 दिन तक चलता रहा। महिला का कहना है कि वह सही और गलत समझ पाने की स्थिति में नहीं थी, लेकिन 10 दिन बाद सब कुछ समझ में आने लगा। उसने बड़ी मुश्किल से बाबा से मुक्ति मांगी। बाबा को विश्वास था कि महिला मुक्त होने के बाद भी उसके आदेशों का पालन करती रहेगी, इसलिए बाबा ने उसे दिल्ली में मुक्त कर दिया। 

महिला सीधे दिल्ली से ग्वालियर आई। यहां पर उसके पति ने गुमशुदगी दर्ज कर दी थी। दोनों सीधे पुलिस के पास आए और सारी बात बताई। पुलिस ने बाबा के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।  पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। ✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। ✔ यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें।  ✔ यहां क्लिक करके व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन कर सकते हैं। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !