Why Trees Lose Leaves in Winter - सर्दियों में पेड़ों के पत्ते क्यों गिर जाते हैं- GK in Hindi

यह प्रश्न मूल रूप से अंग्रेजी भाषा में इस प्रकार पूछा गया है Why do Trees Lose Their Leaves in Winter, जिसे लोग हिंदी में ट्रांसलेट करके (सर्दियों में पेड़ों के पत्ते क्यों गिर जाते हैं) उत्तर की तलाश करते हैं और कंफ्यूज हो जाते हैं। आइए अपन इसका सही उत्तर पता लगाते हैं:- 

Winter से तात्पर्य शीत ऋतु या वसंत ऋतु

दरअसल, यहां प्रश्न यह नहीं किया जा रहा है कि शीत ऋतु में पेड़ों के पत्ते क्यों गिर जाते हैं क्योंकि शीत ऋतु में पेड़ों के पत्ते नहीं गिरते हैं। बच्चों की किताब में जब इस प्रश्न के संदर्भ में Winter का उपयोग किया गया है तो मूल रूप से वह यह पूछ रहा है कि बसंत ऋतु में पेड़ों के पत्ते क्यों गिर जाते हैं। शुद्ध हिंदी में इस प्रक्रिया को पर्ण विलगन कहते हैं। हालांकि भारत में कुछ पेड़ ऐसे होते हैं जो वसंत ऋतु में खिल जाते हैं। उनमें पुष्प आते हैं और वह बहुत सुंदर लगते हैं। 

बसंत ऋतु में पेड़ों से पत्ते क्यों गिर जाते हैं

अब जबकि सवाल सही हो गया है तो उसका उत्तर सही मिल जाएगा। पौधों में ऑक्सिन नामक हार्मोन होता है जो उन्हें बढ़ने में मदद करता है। यह ऑक्सिन ही है जो पौधे को सूर्य की दिशा में मोड़ने के लिए प्रेरित करता है ताकि उसके पत्ते अधिक से अधिक सूर्य के प्रकाश का अवशोषण कर सकें और पौधे का अधिकतम विकास हो सके। 

वसंत ऋतु में, प्रत्येक पत्ती के आधार पर एक परत (जिसे विलगन परत कहा जाता है) बनती है। सर्दियों के तापमान के कारण ऑक्सिन का उत्पादन धीमा हो जाता है और यह विखंडन परत को तोड़ देता है, जिससे पत्तियां पेड़ों से अलग हो जाती हैं। एक प्रकार से देखे तो यह काफी अन्याय पूर्ण लगता है लेकिन प्रकृति की तकनीक देखिए। पत्तियों के गिर जाने के कारण सर्दियों में पेड़ कम ऊर्जा में भी जीवित रह पाते हैं। यदि पत्तियां अलग नहीं होंगी तो पेड़ को अधिक ऊर्जा की जरूरत पड़ेगी और ऐसी स्थिति में वह कमजोर हो जाएगा। खत्म भी हो सकता है। 

प्रकृति का दूसरा चमत्कार देखिए। पेड़ों से गिरी हुई पत्तियां, कचरा नहीं होती बल्कि मिट्टी में पोषक तत्वों को जोड़ने में मदद करती हैं। यानी इन्हीं पत्तियों के कारण वसंत ऋतु के बाद पेड़ मिट्टी से से पोषण प्राप्त करेगा और उसकी जड़े मजबूत हो जाएंगी। जो पोषक तत्व (Nutrients) जैसे मैग्नेशियम, फॉस्फोरस आदि पेड़- पौधों को उनकी Growth के चाहिए होते हैं, वे इन्हीं सूखी पत्तियों से प्राप्त हो जाते हैं जिन्हें हम कचरा समझकर फेंक देते हैं।