INDORE एग्रीकल्चर कॉलेज मामला- मुख्यमंत्री कार्यालय ने ABVP नेताओं को बुलाया

इंदौर।
कृषि विद्यार्थियों के साथ ही अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (अभाविप) द्वारा शासकीय कृषि महाविद्यालय की जमीन शासन द्वारा वापस लेने का विरोध किया जा रहा है। महाविद्यालय के पूर्व छात्रों के संगठन द्वारा जमीन को बचाने के लिए किए जा रहे आंदोलन में अभाविप भी शामिल हुआ है। इसी सिलसिले में अभाविप का प्रतिनिधिमंडल इस मुद्दे पर चर्चा के लिए आठ सितंबर को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान से मुलाकात के लिए भोपाल जाएगा। मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से अभाविप को मिलने का समय मिला है।

एयरपोर्ट पर ABVP नेताओं को पुलिस से पिटवाया था

अभाविप के प्रतिनिधिमंडल में शामिल पदाधिकारी कृषि महाविद्यालय की जमीन के साथ ही मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपी पीएससी) की रुकी हुई परीक्षाओं और परिणामों पर भी चर्चा करेगा। दरअसल इन दोनों मुद्दों पर परिषद के पदाधिकारी और कार्यकर्ता हाल ही में मुख्यमंत्री के इंदौर प्रवास के दौरान उनसे मिलने एयरपोर्ट पर पहुंचे थे। इस दौरान पुलिस ने छात्रों और परिषद पदाधिकारियों पर लाठीचार्ज कर दिया। इसे लेकर परिषद कार्यकर्ताओं में काफी आक्रोश है।

उल्लेखनीय है कि शासन कृषि महाविद्यालय की जमीन वापस लेकर इसका व्यावसायिक उपयोग करना चाहता है। इस बेशकीमती जमीन को निजी कंपनियों को बेचने की तैयारी की जा रही है। इसे लेकर छात्र लंबे समय से आंदोलित हैं। राज्य सरकार महाविद्यालय की जमीन वापस लेकर इसे मध्यप्रदेश लोक परिसंपत्ति प्रबंधन विभाग के माध्यम से इसे बेचने की तैयारी कर रही है। यदि ऐसा किया जाता है तो लगभग वर्षों से यहां चल रहे कृषि अनुसंधान और कृषि महाविद्यालय बंद हो जाएंगे।

महाविद्यालय से जुड़े कृषि विज्ञानियों में भी सरकार के इस कदम से बड़ी चिंता है। महाविद्यालय परिसर की जमीन पर विभिन्न अनुसंधान कार्य चल रहे हैं। इसमें अधिकांश अनुसंधान परियोजनाएं भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के सहयोग से चल रही हैं। आंदोलनकारी छात्रों का कहना है कि वर्षों से चल रहे इस संस्थान की जमीन को बेचकर राज्य सरकार किसानों और उनके बच्चों के साथ भी अन्याय कर रही है।