Current affairs- दुनिया की 14 मौसम घटनाएं जो प्रलय के प्रारंभ का संकेत दे रही है

सन 2022 में दुनिया भर में मौसम से संबंधित 14 ऐसी घटनाएं हुई हैं, जो ना केवल चिंता बढ़ाने वाली है बल्कि यह सोचने पर मजबूर कर रही है कि कहीं यह प्रलय का प्रारंभ तो नहीं है। घटनाएं अलग-अलग देशों में अलग-अलग प्रकार की हैं परंतु सब में एक समानता यह है कि वह मनुष्य प्रजाति को नष्ट करने वाली हैं। 

चीन में लू के कारण हजारों कारखानों को बंद करना पड़ा

क्लाइमेट ट्रेंड्स की रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2022 में हीटवेव के प्रभाव के कारण चीन में 70 दिनों तक चलने वाली लू से तापमान 40 डिग्री सेल्सियस (104 फ़ारेनहाइट) से ऊपर पहुंच गया, जिससे जलविद्युत संयंत्र बंद हो गए और औद्योगिक शहर चोंगकिंग में व्यवसायों को बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

अमेरिका में 1200 सालों का सबसे भीषण सूखा पड़ा

यूरोप ने कम से कम 500 वर्षों में अपने सबसे खराब सूखे का अनुभव किया। इस दौरान महाद्वीप का 17% हिस्सा अलर्ट की स्थिति में था। सूखे के कारण जंगल में आग लग गई। फसल घट गई और ऊर्जा उत्पादन बाधित हो गया। वैज्ञानिकों के अनुसार अमेरिका में 1,200 वर्षों का सबसे भीषण सूखा पड़ा है।

पाकिस्तान में बाढ़ के कारण 33 लाख लोग विस्थापित हुए

रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2022 में बाढ़ के प्रभावों के लिहाज से देखें तो पाकिस्तान में भयंकर बाढ़ के कारण 1,500 से अधिक लोग मारे गए हैं और 33 मिलियन लोग विस्थापित हुए हैं। बाढ़ के कारण इस देश का एक तिहाई हिस्सा पानी में डूब गया है।

ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका में अचानक बाढ़ से भीषण तबाही

ऑस्ट्रेलिया में बाढ़ के कारण 3.5 अरब अमेरिकी डॉलर के नुकसान का एक नया रिकॉर्ड बन गया जो देश में अब तक की सबसे महंगी प्राकृतिक आपदाओं में से एक है। दक्षिण अफ्रीका में पूर्वी दक्षिण अफ्रीका के तट पर अप्रैल में दो दिनों की असाधारण वर्षा के कारण भयंकर बाढ़ आई, जिससे 40,000 से अधिक विस्थापित हुए। इसके अलावा दक्षिण अफ्रीका के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में 12,000 से अधिक घर नष्ट हो गए और सड़कों, स्वास्थ्य केंद्रों और स्कूल गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गये।

चीन, भारत और अमेरिका जैसे प्रमुख वैश्विक खाद्य उत्पादक देश विशेष रूप से लंबे समय तक सूखे से प्रभावित हुए हैं।