BHOPAL NEWS- अनाथ लड़की 2 जून की रोटी के बदले ढाई साल तक दुष्कर्म सहन करती रही

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के कोलार पुलिस थाने में 17 साल की एक लड़की ने 3 लड़कों और एक मुंह बोली दीदी के खिलाफ FIR दर्ज करवाई है। 9 साल की उम्र में लड़की के माता-पिता की मृत्यु हो गई थी। शुरुआत में नानी ने रखा लेकिन एक दिन गुस्सा हो कर घर छोड़ा तो नानी ने वापस नहीं बुलाया। उसके बाद दो वक्त का खाना और सर छुपाने के लिए जगह के लिए ढाई साल तक दुष्कर्म सहन करती रही। समाज के लिए चिंता और प्रशासन के लिए शर्मसार बात यह है कि लड़की को अपने कानूनी अधिकार पता नहीं थे। वह खुद को दोषी मानती थी और आत्महत्या करने जा रही थी।

भाई ने डांट लगाई तो नानी का घर छोड़ दिया

पीड़ित लड़की ने बताया कि 'कोलार क्षेत्र के कान्हाकुंज की रहने वाली हूं। साल 2014 में मेरी उम्र करीब 9 साल थी। इसी साल माता-पिता की मौत हो गई थी। मैं नानी के घर रहने लगी। एक दिन बिना बताए सहेली पूजा के घर चली गई। रात में वहीं रही। दूसरे दिन घर पहुंची, तो नानी के यहां भाई ने डांट दिया।

मुंह बोले पति के साथ रही और फिर उसे भी छोड़ दिया

चूंकि पूजा के भाई अंकित से दोस्ती हो गई थी, तो 19 जनवरी 2019 को मैं उसके घर रहने चली गई। यहां हम पति-पत्नी की तरह रहने लगे। अंकित के परिवारवालों ने भी मुझे बहू मान लिया। नवंबर 2019 में अंकित से झगड़ा हो गया। हम दोनों अलग हो गए।

मेघा दीदी ने नशे की लत लगा दी, फिर विदिशा चली गई

इसके बाद अकबरपुर क्षेत्र की रहने वाली मेघा दीदी ने मुझे मदद का भरोसा दिलाया। नौकरी दिलाने की बात कहकर वह अपने घर ले गई। दीदी ने नशे की लत लगाई। वह मुझे शराब पिलाती थी। ड्रग्स भी देती थी। यहां रहते हुए विदिशा के रहने वाले कमलेश से मेरी पहचान हुई। जुलाई 2020 में कमलेश के साथ मैं विदिशा जाकर रहने लगी। 

विदिशा वाले लिव इन पार्टनर को छोड़कर भोपाल आ गई

उसने भी शादी का झांसा देकर मुझसे संबंध बनाए। यहां भी पति-पत्नी की तरह हम रहने लगे। कमलेश ने मुझे भोपाल आने से मना कर दिया था। कुछ दिन बाद फरवरी 2021 में मैं भागकर भोपाल आ गई। बैरागढ़ में मेघा की छोटी बहन आशा दीदी के पास आकर रहने लगी। 

बैरागढ़ वाले राहुल के साथ पत्नी बनकर रहने लगी

यहां रहकर एक रेस्टॉरेंट में भी नौकरी करने लगी। यहां मेरी मुलाकात बैरागढ़ के रहने वाले राहुल से हुई। राहुल ने भी मदद का झांसा दिया। 15 अप्रैल 2021 से मैं राहुल के साथ रहने लगी। उसके साथ भी पति-पत्नी जैसा रिश्ता था। बाद में राहुल से भी झगड़ा हुआ, तो 19 मई 2021 को मैं वहां से चली गई। 

लड़की को लगता था सारी गलती उसी की है, इसलिए आत्महत्या की कोशिश की

निर्भया गृह की अधीक्षिका समर खान ने बताया कि लड़की डिप्रेशन में चली गई थी। उसे लग रहा था कि वह ही गलत है। उसने पूजा घर से तस्वीरों को तोड़कर कांच निकाल लिए। इसके बाद हाथ की नस कटकर सुसाइड की कोशिश की। बालिका गृह में रहने के दौरान सभी लड़कियों को पॉक्सो और उनके अधिकारों को लेकर बताया जाता है। इसी बीच, लड़की ने अधीक्षिका को पीड़ा सुनाई। 

अधीक्षिका ने बताया कि लड़की का हमीदिया में इलाज भी कराया गया है। पूछताछ में लड़की ने बताया कि मेघा ने उसे नशे की लत लगा दी। वह शराब और ड्रग्स देती थी। उसी ने ही विदिशा के कमलेश से दोस्ती कराई थी। इसके बाद उसकी छोटी बहन ने अपने पास रखकर राहुल से दोस्ती करा दी।