मध्यप्रदेश पुलिस की वीरता वाला केएफ रुस्तमजी पुरस्कार क्या है जानिए- General knowledge

पुलिस बल की वीरता एवं उनकी कुशलता के लिए वैसे तो बहुत से पुरुस्कार उन्हें दिए जाते हैं लेकिन केएफ रुस्तमजी जी पुरस्कार एक अलग ही विधि पुरस्कार हैं, पुरस्कार की नियमावली जानने से पहले हम आपको बताएंगे की के.एफ.रुस्तमजी कौन थे एवं पुलिस विभाग में इनका क्या योगदान था जानिए।

खुसरो फ़रामुर्ज़ रुस्तमजी (केएफ रुस्तमजी) का सामान्य जीवन परिचय:-

केएफ रुस्तमजी का जन्मदिन 22 मई 1916 नागपुर में हुआ था,रुस्तमजी के माता-पिता पारसी धर्म के थे। रुस्तमजी ने अपनी सम्पूर्ण शिक्षा नागपुर में ही पूरी की थी, सन् 1936 से 1938 तक नागपुर कॉलेज में सहायक प्रोफेसर रहे एवं सन् 1938 में रुस्तमजी जी भारतीय पुलिस सेवा में चुने गए। इसके बाद वर्ष 1942 में भारत छोड़ा आंदोलन के समय वह नागपुर ड्यूटी पर तैनात रहे,वर्ष 1947 में स्वतंत्रता के बाद वह रायगढ़ पुलिस अधीक्षक रहे एवं वर्ष 1949 में वह औरंगाबाद में उपमहानिरीक्षक के पद पर रहे। 

इसके बाद रुस्तमजी भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू जी के वर्ष 1952 में मुख्य सुरक्षा अधिकारी रहे। रुस्तमजी को 1958 में मध्यप्रदेश पुलिस का प्रमुख बनाया गया इन्होंने मध्यप्रदेश में चंबल के डकैतों को परास्त किया जिनमें अमृतलाल, रूपासिंह, लखन सिंह, गब्बर सिंह प्रमुख रहे। 

रुस्तमजी को वर्ष 1965 में बीएसएफ का प्रमुख बनाया गया एवं वर्ष 1971 में भारत पाकिस्तान युद्ध में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई और बांग्लादेश की मुक्त कराने में योगदान दिया। सेवानिवृत्त के बाद रुस्तमजी को गृह मंत्रालय का विशेष सचिव बनाया गया एवं वर्ष 1991में इस वीर योद्धा की पद्य विभूषण से सम्मानित किया गया एवं वर्ष 2003 में इस महान व्यक्ति का निधन हो गया।

"कहते हैं कि रुस्तमजी जी अपनी वीरता, कुशलता, एवं बुद्धिमानी से देश की सेवा करते थे।,

क्या है केएफ रुस्तमजी पुरस्कार जानिए:- 

पुलिस बल के अधिकारियों, कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने, गुणवत्ता सुधारने, विशेषता अर्जित करने के लिए प्रोत्साहित या नक्सल विरोधी अभियान में सफलता पर, सांप्रदायिक दंगों एवं गंभीर हालत में कानून व्यवस्था को सफल करने आदि के लिए पुलिस विभाग द्वारा प्रतिवर्ष नियम अनुसार यह पुरस्कार दिया जाता है इस पुरस्कार का प्रारंभ 22 अगस्त 2013 से किया गया है, यह पुरस्कार तीन श्रेणियों में पुलिस बल को दिया जाता है।

1. परम विशिष्ट स्तर पर:- पुरस्कार राशि पाँच लाख रुपए अथवा रिवॉल्वर,12 बोर गन या 315 बोर रायफल एवं प्रमाण-पत्र।
2. अति विशिष्ट स्तर पर:- पुरस्कार राशि दो लाख रुपए या रिवाल्वर, 12 बोर गन या 315 बोर रायफल एवं प्रमाण-पत्र।
3. विशिष्ट स्तर पर:- पुरस्कार राशि पचास हजार रुपए एवं प्रमाण-पत्र दिया जाता है।
लेखक बीआर अहिरवार (पत्रकार एवं लॉ छात्र होशंगाबाद) 9827737665