मध्य प्रदेश मानसून- बंगाल के बादल 30 को पहुंचेंगे, 3-4 दिन बरसेंगे- MP WEATHER FORECAST

मध्य प्रदेश में फिलहाल मूसलाधार बारिश का खतरा टल गया है। बंगाल की खाड़ी से 24-25 अगस्त को उठे बादल मध्यप्रदेश के आसमान पर ज्यादा देर टिक नहीं पाए। अब 29 तारीख को फिर से बादलों का एक दल समुद्र से मध्य प्रदेश की तरफ बढ़ेगा। यह 30 तारीख को मध्यप्रदेश के आसमान पर छा जाएगा। विशेषज्ञों का अनुमान है कि 3-4 दिन कई इलाकों में बारिश होगी। 

मध्य प्रदेश मौसम का पूर्वानुमान- 3 जिलों में भारी वर्षा होगी, येलो अलर्ट जारी

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार मध्य प्रदेश के 3 जिले रीवा, पन्ना और सतना में भारी बारिश होने की संभावना है। मौसम केंद्र भोपाल ने तीनों जिलों के लिए येलो अलर्ट जारी किया है। यानी सावधान रहें और मौसम खराब होने की स्थिति में स्वयं को सुरक्षित करें। 

मध्य प्रदेश के इन जिलों में वज्रपात का खतरा

उपरोक्त के अलावा रीवा शहडोल नर्मदा पुरम भोपाल एवं चंबल संभाग के सभी जिलों में तथा कटनी जबलपुर नरसिंहपुर बालाघाट सागर छतरपुर शिवपुरी ग्वालियर एवं दतिया जिलों में वज्रपात का खतरा है। यदि हल्की बारिश होती है या बादलों की गड़गड़ाहट होती है तो स्वयं को संभावित वज्रपात से बचाएं। 

मध्य प्रदेश 28, 29, 30 और 31 अगस्त मौसम का पूर्वानुमान

मध्य प्रदेश के मौसम विभाग के विशेषज्ञों का कहना है कि 29 अगस्त को बंगाल की खाड़ी के चक्रवात से जो बादल उठेंगे वह ग्वालियर की तरफ आगे बढ़ेंगे। इसके कारण एक बार फिर पूर्वी मध्यप्रदेश यानी महाकौशल के जबलपुर से लेकर बुंदेलखंड और बघेलखंड में झमाझम बारिश हो सकती है। 

रविवार सुबह तक रीवा, पन्ना और सतना में भारी बारिश और शहडोल, भोपाल, नर्मदापुरम, चंबल, कटनी, जबलपुर, नरसिंहपुर, बालाघाट, सागर, छतरपुर, शिवपुरी, ग्वालियर और दतिया में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ हल्की बारिश हो सकती है।वही इंदौर और उज्जैन संभागों में कहीं-कहीं हल्की बूंदाबांदी के साथ हवाओं की रफ्तार 40 से लेकर 50 किमी प्रतिघंटा रह सकती है।