MP बड़ी खबर- गेहूं के निर्यात पर तब प्रतिबंध लगा, जब 50 देशों से डिमांड आ गई थी, पहला शिप रवाना हो रहा है

भोपाल
। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के अभियान को झटका लगा है। 2 महीने की मेहनत के बाद जब दुनिया के 50 से ज्यादा देशों से मध्य प्रदेश के गेहूं के लिए डिमांड आई पड़ोसी और अन्य जरूरतमंद देशों की सहायता के लिए, केंद्र सरकार ने तत्काल प्रभाव से गेहूं के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। 

गजट नोटिफिकेशन में बताया गया है कि सिर्फ उस स्थिति में निर्यात की अनुमति दी जाएगी जहां अधिसूचना की तारीख को या उससे पहले अप्रतिसंहरणीय साख पत्र जारी किया गया हो। अन्य देशों को उनकी खाद्य सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत सरकार द्वारा दी गई अनुमति के आधार पर निर्यात की अनुमति दी जाएगी। 

जरूरतमंदों की मदद करना मानवता का काम है और लॉकडाउन गवाह है कि मध्य प्रदेश इस मामले में देश में नंबर वन है लेकिन केंद्र सरकार का यह फैसला उस समय आया जबकि एक बड़े अभियान के बाद दो हजार निर्यातकों का रजिस्ट्रेशन कर लिया गया। 9 लाख क्विंटल गेहूं बंदरगाहों पर पड़ा हुआ है। मध्य प्रदेश के गेहूं से भरा हुआ पहला जहाज इजिप्ट के लिए रवाना हो रहा है और उत्साहित कृषि विपणन बोर्ड ने किसानों की सहायता के लिए हेल्पलाइन शुरू कर दी है। 

कुल मिलाकर यह प्रतिबंध उस समय लगा जब मध्य प्रदेश की सरकार की मेहनत का परिणाम और किसानों को मोटा मुनाफा मिलने वाला था। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया MP NEWS पर क्लिक करें.