गर्मी के कहर से बचना है तो अपनाइए यह हेल्थ मंत्र - Health Management

शक्ति रावत।
बनारस के रहने वाले 126 साल के योग गुरू शिवानंद को पिछले दिनों पद्मश्री जब सम्मानित किया गया, तब उनकी चुस्ती और फुर्ती देखकर पूरी दुनिया हैरान थी। पहली तो बात यह कि आज के समय में इतनी उम्र तक जीने की कल्पना ही किसी के लिए भी मुश्किल है, दूसरी इतनी उम्र के बाद भी स्वस्थ्य और चलता फिरता रहना और भी मुश्किल। लेकिन यह संभव है, यही हमारे योग और आध्यात्म की ताकत है। 

शिवानंद जी इस बात का जीताजागता उदाहरण है कि अगर व्यक्ति प्रकृति से तालमेल बनाकर जिए तो आज भी 100 साल से ऊपर जी सकता है। ना कोई बीमारी, ना सर्जरी और ना ही दवाएं। उनका जीवन सबके लिए प्रेरणा है। इसलिये आज बात मौसम और सेहत के मैनेजमेंट की। आपकी दिनचर्या ठीक हो तो आप हर मौसम में सेहतमंद रहेंगे।

1- गर्मी में सेहतमंद रहने के लिए तरल का सेवन ज्यादा

इस समय गर्मी का मौसम चल रहा है। ऐसे में सेहतमंद रहने के लिए तरल पदार्थों का सेवन खानो से ज्यादा करना चाहिये। पानी के साथ ही गन्ने का रस, आम पना, दही और मौसमी फल जैसे तरबूज, खरबूज निजमें प्रचुर मात्रा में पानी होता है। आपके शरीर और दिमाग के लिए फायदेमंद हैं। यह आपको फिट और फुर्तीला बनाए रखेंगे।

2- हीट स्ट्रोक और गर्मी की बीमारियों से बचने एक्सरसाइज जारी रखें

गर्मी का मौसम आलस का मौसम कहा जाता है। लोग देर रात तक जागकर सुबह देर तक सोते हैं। लेकिन मौसम कोई भी हो अपनी दिनचर्या को डिस्टर्ब ना होने दें। इस मौसम में भी योग, प्राणायाम, एक्सरसाइज या दूसरी शारीरिक गतिविधियों को नियमित तौर पर करें। शरीर सक्रिय रहेगा तो आपके ऊपर हीट स्ट्रोक, लू और दूसरी मौसमी बीमारियों से बचे रहेंगे।

3- प्रकृति से ना बनाये दूरी

गर्मी के मौसम में अकसर लोग खुद को घरों में कैद कर लेते हैं। बाहर निकलना हो तो शाम का इंतजार करते हैं। यह सही है, कि गर्मी में दोपहर की धूप नुकसानदायक है, लेकिन फिर भी दूसरे मौसमों की तरह इस मौसम में भी शरीर को सूरज की धूप और प्राकृति वातावरण की उतनी ही जरूरत होती है। लिहाजा सुबह के समय जबकि गर्मी तेज नहीं होती है, उस समय कम से कम 10 से 15 मिनिट प्रकृति के संपर्क में जरूर रहें। - लेखक मोटीवेशनल एंव लाइफ मैनेजमेंट स्पीकर हैं। स्वास्थ्य से संबंधित समाचार एवं जानकारियों के लिए कृपया Health Update पर क्लिक करें.