MPPEB डायरेक्टर सर, शिकायत आ गई है, खुली जांच कराइए, निष्पक्षता और ईमानदारी घोषित नहीं साबित कीजिए

मध्य प्रदेश।
प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड भोपाल द्वारा कल दावा किया गया था कि मध्य प्रदेश पुलिस भर्ती परीक्षा में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी नहीं हुई है। आज देवास वाले उम्मीदवार का बयान आया है। उसने कहा कि उसके पास इतना पैसा नहीं है कि शिकायत करने के लिए देवास से भोपाल आए। देवास कलेक्टर के पास शिकायत कर रहा है। अब देखना यह है कि प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड, भोपाल अपनी निष्पक्षता साबित करने के लिए उस शिकायत को देवास कलेक्टर से अपने पास बुलवाते हैं, या फिर सरकारी परंपराओं के अनुसार शिकायत के विधिवत आने का इंतजार करेंगे।

क्वालिफाइड के बाद नॉट क्वालिफाइड घोषित किए गए उम्मीदवार का बयान

विकास का कहना है कि 28 जनवरी को ऑनलाइन परीक्षा हुई थी। उसमें मेरे 77 नंबर आए थे। 24 मार्च को 10 बजे उसका रिजल्ट आया, मैंने करीब 11 बजे रिजल्ट देखा। उसमें मुझे क्वालिफाइड बताया था, लेकिन जब 25 मार्च को मेरे एक दोस्त ने मेरा रिजल्ट देखा तो उसमें मुझे नॉट क्वालिफाईड बताया गया। OBC वर्ग के लिए कट ऑफ 68 नंबर है और मेरे 77 नंबर आए हैं, यानी कट ऑफ से 9 नंबर ज्यादा। विकास ने कहा कि मुझे नहीं पता कहां और कैसे शिकायत करनी है। इतना पैसा भी नहीं है कि भोपाल के चक्कर लगा सकूं। इसलिए देवास कलेक्टर के पास शिकायत कर रहा हूं। यहां उल्लेख प्रासंगिक है कि भोपाल वाले उम्मीदवार में शिकायत करने से इंकार कर दिया। उसका कहना था कि घर का इकलौता हूं, शिकायत करके नहीं ले सकता।

समाचारों को भी शिकायत मानने का प्रावधान है, जांच शुरू कर सकते हैं 

प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के संचालक मंडल को याद दिलाना आवश्यक है समाचारों को भी शिकायत मानने का प्रावधान है। बोर्ड चाहे तो देवास के उम्मीदवार द्वारा दिए गए बयान के आधार पर जांच शुरू कर सकता है। कई बार सुप्रीम कोर्ट ने समाचार को जनहित याचिका के तौर पर संज्ञान में लिया है। PEB चाहे तो खुली जांच प्रारंभ करें। वह पत्रकार जिसने उम्मीदवार का बयान लिया है, विकास को लेकर भोपाल आ जाएगा। अन्य जानकारी इस प्रकार है:- 

उम्मीदवार का नाम:- विकास मीणा 
उम्मीदवार का पता:- ग्राम जूनापानी, तहसील खातेगांव जिला देवास 
शिकायत क्या है:- 24 मार्च को रिजल्ट में क्वालिफाइड लिखा था, 25 मार्च को नॉट क्वालिफाइड हो गया। 
साक्ष्य कहां मिलेंगे:- उस कंप्यूटर सर्वर में जहां पर पूरा रिजल्ट अपलोड किया गया है। 
सबसे खास बात:- कंप्यूटर चुगलखोर होता है, यदि रिजल्ट को एडिट किया गया है तो उसका रिकॉर्ड जरूर मिलेगा और अपने सॉफ्टवेयर का निरीक्षण करने के लिए किसी शिकायत की जरूरत नहीं होती। यह ठीक वैसा ही है जैसे गस्त करने के लिए पुलिस को किसी शिकायत की जरूरत नहीं होती।
मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया mp news पर क्लिक करें.