MP TET VARG 3 TOPIC- बुद्धि के सिद्धांत- Principles of Intelligence

कई मनोवैज्ञानिकों ने बुद्धि के सिद्धांतों का वर्गीकरण उनके आधारभूत तत्वों की संख्या के हिसाब से किया इसमें मुख्य रूप से हॉवर्ड गार्डनर (Howard Gardner) का बहु बुद्धि सिद्धांत सबसे अधिक प्रचलित और मान्य है। इसी के आधार पर बहुआयामी बुद्धि की अवधारणा को भी स्वीकार किया गया है परंतु उससे पहले हमें बुद्धि के कुछ प्रमुख सिद्धांत और उन सिद्धांतों को देने वाले मनोवैज्ञानिकों के  नाम मालूम होना भी जरूरी है। 

1. एक तत्व या एक कारक सिद्धांत (Single factor or Unifactor Theory) 

इस सिद्धांत को अल्फ्रेड बिने ने दिया था। जिन्होंने मानसिक आयु की अवधारणा भी दी थी और इसी के साथ उन्हें उन्होंने पहला इंटेलिजेंस टेस्ट भी दिया था। इसी कारण उन्हें फादर ऑफ़ इंटेलिजेंस टेस्ट भी कहा जाता है। 

इस सिद्धांत में उन्होंने बताया कि बुद्धि का केवल एक ही तत्व होता है, जिसे सामान्य कारक या जनरल फेक्टर (G factor) कहा जाता है। अगर किसी व्यक्ति में यह एक एक तत्व उपस्थित है तो वह बुद्धिमान है,वरना वह  व्यक्ति किसी भी काम में अच्छा नहीं हो सकता। इस सिद्धांत की कड़ी आलोचना की गई और वर्तमान में यह सिद्धांत बिल्कुल भी मान्य नहीं है। इस सिद्धांत के समर्थक लुईस टर्मन और विलियम स्टर्न थे। 
मध्य प्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के इंपोर्टेंट नोट्स के लिए कृपया mp tet varg 3 notes in hindi पर क्लिक करें.

2. द्वि कारक सिद्धांत (Two factor Theory) - 

यह सिद्धांत चार्ल्स स्पीयरमेन (Charles Spearman) ने दिया। इस सिद्धांत के अनुसार बुद्धि के दो कारक होते हैं, एक सामान्य कारक (General Factor) तथा दूसरा विशिष्ट कारक (Specific Factor). इस सिद्धांत के अनुसार सामान्य कारक का होना जरूरी है, तभी कोई विशिष्ट कारक बेहतर हो सकता है तथा प्रत्येक व्यक्ति में सामान्य मानसिक योग्यता के अलावा कुछ ना कुछ विशिष्ट योग्यताएँ भी पाई जाती हैं परंतु सामान्य योग्यता का होना जरूरी है। 

3. बहु कारक सिद्धांत (Multi factor theory) -

इस सिद्धांत को थार्नडाइक ने दिया था। जिन्होंने तीन प्रकार की बुद्धि के बारे में बताया था- अमूर्त बुद्धि, मूर्त बुद्धि और सामाजिक बुद्धि (Abstract Intelligence, Concrete Intelligence and Social Intelligence) जिसे ACS से याद रख सकते हैं।
इसके अलावा उन्होंने बुद्धि के चार के चार स्वतंत्र प्रतिमान (Aspects) दिए जो की स्तर (Level), सीमा (Range), क्षेत्र (Area) और गति (Speed) हैं। 

3. त्रिबुद्धि सिद्धांत (Triarchic Theory)-स्टर्नबर्ग
4. प्रतिदर्श सिद्धांत (Sample Theory) -थॉमसन
5. समूह कारक सिद्धांत (Group Factor Theory)- लूईस एल. थर्सटन
6. पदानुक्रम सिद्धांत या त्रि-आयामी सिद्धांत (Structure Of Intelligence or 3- D Model) - जे. पी. गिल्फोर्ड
7.तरल ठोस बुद्धि सिद्धांत (Crystal &Fluid Intelligence Theory) -आर. बी. केटल
8.बहु बुद्धि सिद्धांत(Theory Of Multiple Intelligence) - हावर्ड गार्डनर
बहु बुद्धि सिद्धांत और बहुआयामी बुद्धि की चर्चा हम अगले आर्टिकल में करेंगे।
मध्य प्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के इंपोर्टेंट नोट्स के लिए कृपया mp tet varg 3 notes in hindi पर क्लिक करें.