दांत हिल रहे हैं तो यह घरेलू नुस्खा अपनाएं- home remedies for teeth

दांतों का हिलना एक आम बात है लेकिन यह किसी भी व्यक्ति को बेहद परेशान कर जाती है। दांतो के हिलने का मतलब होता है, उनका अंत समय निकट है। यदि उसे बचाया नहीं गया तो गिर जाएगा लेकिन कुछ घरेलू नुस्खे हैं, जिन्हें आजमाकर लोगों ने अपने कमजोर दांतो को फिर से मजबूत बनाया है।

दातों के हिलने का कारण क्या है, बीमारी का कारण क्या है

दांतों की ढीलापन आमतौर पर पैरीयोडोंटम नामक बीमारी के कारण होता है। यह बीमारी दांतो को नहीं बल्कि मसूड़ों को कमजोर बनाती है। इसके कारण मसूड़ों की पकड़ प्रभावित होती है और दांत हिलने लगते हैं। यह प्रॉब्लम रेगुलर ब्रश ना करने के कारण, दांतो को अत्यधिक रगड़ने के कारण, उम्र बढ़ने के कारण, खाना खाने के बाद दांतो को साफ ना करने के कारण और गम क्लीनिंग ना करने के कारण हो सकती है।

दांतों का हिलना कैसे बंद होगा

अब अपन समझ चुके हैं कि यदि दांत हिल रहे हैं तो मसूड़े बीमार हैं। इसलिए दातों को कुछ नहीं करना। मसूड़ों को मजबूत करने के लिए काली मिर्च और हल्दी की जड़ को पीसकर पेस्ट बना लें और नियमित रूप से 3 मिनट तक मसूड़ों पर बनाए गए पेस्ट से मसाज करते रहें। कुछ ही दिनों में आपके मसूड़े मजबूत हो जाएंगे और दांतों का हिलना बंद हो जाएगा।

खराब मसूड़ों को ठीक करने के घरेलू उपाय

पुदीने के तेल में दांतों की समस्‍याओं को दूर करने वाले एंटीबैक्‍टीरियल और एंटीमाइक्रोबैक्‍टीरियल गुण होते हैं। प्रतिदिन 3 मिनट तक मसूड़ों की मसाज करने से मसूड़ों में छुप कर बैठे हुए सारे बैक्टीरिया और वायरस मर जाएंगे और जब बैक्टीरिया मर जाएंगे तो मसूड़े अपने आप मजबूत होने लगेंगे। यदि आप पुदीने के तेल से मसूड़ों की मसाज नहीं कर सकते तो आप पुदीना के तेल में पानी मिलाकर कुल्ला भी कर सकते हैं। 

दांतो को साफ और मसूड़ों को मजबूत बनाने के घरेलू नुस्खे 

बच्चे अक्सर सवाल पूछते हैं कि जब टूथपेस्ट का अविष्कार नहीं हुआ था तब लोग अपने दांतो को कैसे साफ करते थे। दरअसल, सरसों का तेल और नमक का मिश्रण दांतों और मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखने का सबसे प्राचीन तरीका है। रोज सुबह उठकर सादा नमक में कुछ सरसों की बूंदें डालकर यदि आप दांतों को साफ करेंगे तो आश्चर्यजनक रूप से ना केवल आपके दांत चमकदार दिखाई देंगे बल्कि आपके मसूड़े भी बेहद मजबूत हो जाएंगे। 

खराब मसूड़ों को मजबूत करने की घरेलू दवा और आयुर्वेदिक तरीके 

आंवला का रस पीने से विटामिन सी प्राप्त होती है जो मसूड़ों को मजबूत बनाने के लिए अनिवार्य है। 
लौंग का तेल मसूड़ों की सूजन और दांतो के दर्द को कंट्रोल करने का सबसे नेचुरल तरीका है।
अजवाइन की पत्तियों का तेल भी मसूड़ों को मजबूत कर बनाता है। 
गुनगुने पानी में थोड़ा नमक डालकर नियमित रूप से कुल्ला करना चाहिए क्योंकि मुंह की सफाई के लिए नमक से बेहतर कोई एंटीसेप्टिक नहीं है। यदि मुंह के अंदर जर्म को खत्म करना है तो नमक वाले गुनगुने पानी का कुल्ला सबसे सस्ता एवं सरल उपाय है। स्वास्थ्य से संबंधित समाचार एवं जानकारियों के लिए कृपया Health Update पर क्लिक करें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here