क्या आप जानते हैं 1G फोन कैसा था जिसने 5G स्मार्टफोन का मार्ग प्रशस्त किया- GK in Hindi

हम 5जी स्मार्टफोन की तरफ बढ़ रहे हैं। बहुत जल्दी हमारे हाथ में एक ऐसा फोन होगा जिसकी मदद से हम केवल ऑडियो वीडियो कम्युनिकेशन तक सीमित नहीं रहेंगे बल्कि AC और कार से लेकर घर के डोर लॉक तक सारी ऑपरेटिंग कमांड आपके मोबाइल फोन में होगी। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि 1G फोन कैसा था, जिसके कारण कम्युनिकेशन की दुनिया में क्रांति हो गई। 

हम सभी जानते हैं कि कुछ सालों पहले तक वायर वाले टेलीफोन हुआ करते थे। तारों के मकड़जाल के कारण कम्युनिकेशन काफी मुश्किल था। सर्विस की समस्याएं लगातार बनी रहती थी। कभी केबल कट जाती थी तो कभी शार्ट हो जाती थी। 1G फोन की तकनीकी ने इस समस्या से मुक्ति दिलाई और इस तकनीक के कारण ही आज दुनिया में 5G स्मार्टफोन की तकनीक डिवेलप हो पा रही है।

1G वायरलेस फोन कैसा था, किस तकनीक का उपयोग किया गया

1G फोन को सामान्य बोलचाल की भाषा में वायरलेस फोन कहा जाता था। इसमें एनालॉग सिग्नल का उपयोग किया गया था। इसकी मदद से आप किसी ऐसी जगह पर खड़े होकर बात कर सकते थे जहां पर वायर कनेक्टिविटी नहीं है। 1G फोन में पहली बार विश्वास दिलाया कि बिना तार के भी कम्युनिकेशन किया जा सकता है। डाटा ट्रांसफर हो सकता है लेकिन एनालॉग फॉर्मेट होने के कारण इसमें भी कुछ समस्याएं थी। सबसे बड़ी समस्या थी एनालॉग सिग्नल को आसानी से बदला जा सकता था। यह सुरक्षित नहीं था। इसमें आवाज की क्वालिटी कई बार काफी खराब हो जाती थी। कहते हैं ना कि हर समस्या एक आविष्कार का कारण होती है।

2G फोन में कौन सी टेक्नोलॉजी थी, क्या फायदा हुआ

2G फोन जिसे मोबाइल फोन का नाम दिया गया, 1G फोन की समस्याओं का समाधान था। इसमें पहली बार डिजिटल मल्टीपल एक्सेस तकनीक का प्रयोग किया गया। जिसे TDMA (time division multiple access) और CDMA (code division multiple access) का नाम दिया गया। 2G मोबाइल फोन में सबसे क्रांतिकारी बदलाव यह था कि आप वॉइस कॉल के अलावा SMS भी कर सकते थे। इसे अपडेट करते हुए इंटरनेट ब्राउजिंग की सुविधा भी दी गई, लेकिन यह काफी लिमिटेड थी। 

3G फोन को स्मार्ट फोन क्यों कहते हैं

लोग अपने 2G मोबाइल फोन से कुछ ज्यादा चाहते थे। उनकी इसी डिमांड को पूरा करने के लिए 3G तकनीकी डिवेलप की गई। 3G के कारण ही पहली बार मोबाइल फोन को स्मार्टफोन कहा गया। 3G तकनीक में खास बात यह थी कि यह डाटा ट्रांसफर की हाई स्पीड (2Mbps) प्रदान करती थी। इसके कारण इंटरनेट ब्राउजिंग आसान हो गई थी। इसके कारण उपयोगकर्ता वीडियो भी भेज सकते थे। लेकिन इसमें परेशानी यह थी कि इंटरनेट पर किसी फिल्म को देखने के लिए उसे डाउनलोड करना पड़ता था।

4G फोन में ऐसा क्या है जो 3G फोन तकनीक में नहीं है

4G तकनीक इस नई डिमांड को पूरा करने के लिए सक्षम है। इसमें 100 Mbps तक की स्पीड प्राप्त की जा सकती है। इसकी मदद से आप बिना डाउनलोड किए अपने मोबाइल फोन में कोई भी हाई रेजोल्यूशन वीडियो देख सकते हैं। यह चमत्कार MIMO technology के कारण हो पाया।

5G फोन में क्या खास बात होगी

बेहतर क्वालिटी का वॉइस कॉल, SMS, इंटरनेट ब्राउजिंग और ऑनलाइन वीडियो चैटिंग के बाद अब 5G तकनीक विकसित की जा रही है। यह तकनीक एक आम इंसान की सभी घरेलू जरूरतों को पूरा करती है। 5G स्मार्टफोन आपके घर को स्मार्ट होम बना देगा। आपके फोन का नेटवर्क कभी मिस नहीं होगा। नेटवर्क की समस्या हमेशा के लिए खत्म हो जाएगी। 

5G स्मार्टफोन की मदद से आप बिना ड्राइवर की कार चला सकते हैं। यानी आप अपने बच्चों को कार से स्कूल भेज सकते हैं और कार को ड्राइव करने के लिए आपको ड्राइविंग सीट पर बैठने की जरूरत नहीं पड़ेगी। घर बैठे-बैठे आप अपनी कार ड्राइव कर सकते हैं। बिलकुल वैसे ही जैसे आप मोबाइल पर गेम खेलते हैं। (इसी प्रकार की मजेदार जानकारियों के लिए जनरल नॉलेज पर क्लिक करें) Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (general knowledge in hindi, gk questions, gk questions in hindi, gk in hindi,  general knowledge questions with answers, gk questions for kids, ) :- यदि आपके पास भी हैं कोई मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com