Loading...    
   


JABALPUR का सबसे पुराना वटवृक्ष, 1 एकड़ में फैला हुआ है और चमत्कारी हनुमान प्रतिमा - FAMOUS TEMPLE IN MADHYA PRADESH

जबलपुर
। शहर अब स्मार्ट हो गया है लेकिन जबलपुर की जड़ें आज भी पिपरिया ग्राम में दिखाई देती हैं। यहीं पर स्थित है जबलपुर जिले का सबसे पुराना वटवृक्ष, जो अब 1 एकड़ में फैला हुआ है। इस विशाल वटवृक्ष की कुल 11 शाखाएं हैं, इस कारण भी अब यह वृक्ष आस्था का केंद्र बन गया है। 

जबलपुर जिले में बरेला के समीप पिपरिया ग्राम में स्थित है वटेश्वर धाम। प्राचीन एवं विशाल वटवृक्ष के कारण ही इस धर्म स्थल का नाम वटेश्वर धाम पड़ा। कहा जाता है कि यह वटवृक्ष जबलपुर जिले का सबसे प्राचीन वटवृक्ष है। जब तक यह वृक्ष है तब तक जबलपुर का अस्तित्व है। इस धार्मिक स्थान पर भक्तों की कतार तो दशकों से लगी रहती है परंतु इन दिनों पर्यटकों का भी आना जाना हो गया है। लोग 1 एकड़ में फैले हुए वट वृक्ष को देखने के लिए आते हैं।

वटेश्वर धाम में प्राचीन एवं चमत्कारी हनुमान प्रतिमा भी है

वटवृक्ष के साथ साथ श्री राम भक्त हनुमान की प्राचीन एवं अद्वितीय प्रतिमा स्थापित है। प्रतिमा के दाहिने हाथ में माता सीता की निशानी चूड़ामणि के दर्शन होते हैं। इसी दाहिने हाथ में गदा धारण की हुई है। प्रतिमा में शनि देव के दर्शन भी होते हैं। इस स्थान पर मां जगत जननी जगदम्बा जी की नौ वाहनों के साथ बड़ी खेरमाई माता जी, हरदोल बाबा, भैरों बाबा विराजमान हैं।

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiआवारा गाय सड़क के बीच क्यों बैठतीं हैं, क्या सुसाइड करना चाहतीं हैं 
गुरु पूर्णिमा कब मनाई जाएगी, 23 को या 24 जुलाई को - GURU PURNIMA 2021 ACTUAL DATE
शाकम्भरी देवी सिद्धपीठ- भाग्य बदल देतीं हैं, संतानों को दुखी नहीं देख पातीं
GK in Hindiपहले भारतीय आईसीएस अफसर का नाम और सफलता की कहानी 
हड्डियों में दर्द क्यों होता है, सभी कारण एवं निवारण - Bone Pain: Causes and Treatments
GK in Hindi- मादा कोयल की आवाज मधुर नहीं होती, वह तो अपराधी होती है
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
GK in Hindiभारत के किस रेलवे स्टेशन का नाम, सबसे बड़ा है, इसमें अंग्रेजी के कुल कितने अक्षर आते हैं 
GK in Hindiसड़क किनारे वृक्षों पर सफेद पेंट क्यों किया जाता है, वैज्ञानिक कारण 
GK in Hindiबर्फ का टुकड़ा पानी में तैरता है तो फिर शराब में क्यों डूब जाता है 
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here