Loading...    
   


डिजास्टर मैनेजमेंट- आपदा की स्थिति में जीतने की 3 तरीके

Real motivational story in Hindi

शक्ति रावत। कहते हैं, जब चांद पर नीलआर्म स्ट्रांग और बज़ एल्ड्रिन अपना मिशन पूरा कर चुके और वापस लौटने को थे, तभी उनको चांद पर उतारने वाले क्राफ्ट के इंजन को ऑन करने वाला स्विच अचानक टूट गया। यह खतरा सिर्फ नील और बज़ के जीवन पर ही नहीं था, बल्कि अमेरिका का पूरा मिशन ही खतरे में पड़ गया था क्योंकि बिना स्विच ऑन हुए क्राफ्ट स्टार्ट नहीं हो सकता था, और उसके बिना ये दोनों चांद से उड़ान नहीं भर सकते थे। 

मुश्किल बहुत भारी थी, और मदद मिल नहीं सकती थी। तब बज़ एल्ड्रिन ने चंद सेकेंड़ कुछ सोचा और अचानक अपने सूट में से एक पैन निकालकर स्विच के टूटे हुए शॉकिट में डाल दिया। उनका यह जुगाड़ काम कर गया और इंजन स्टार्ट हो गया। तब ये दोनों चांद के ऊपर उनका इंतजार कर रहे स्पेस क्राफ्ट अपोलो तक पंहुच सके। वह टूटा हुआ स्विच और बज़ द्वारा इस्तेमाल किया गया वह पेन आज भी नासा के म्यूजियम में सुरक्षित रखे हुए हैं। 

What to do in emergency for success

यह कहानी मैने इसलिये लिखी क्योंकि यह सबक देती है कि, मुश्किल दौर में भी शांति से दिमाग चलाया जाए तो छोटा सा आइडिया भी बड़ी मुसीबत से बाहर निकाल देता है। कोरोना के इस मुश्किल दौर में जबकि ज्यादातर लोग परेशान, हताश और निराश होकर अपना संतुलन खो रहे हैं, हालात बहुत बुरे हैं। आप घबराने की जगह आइडिया लगाईए, और खुद को सुरक्षित रखिये।

1- इमोशनली स्ट्रांग बनें-

माना हालात सामान्य नहीं है, और किसी के लिए भी इन्हें फेस करना आसान नहीं है। लेकिन सामना करने के अलावा दूसरा चारा नहीं है। ऐसे में तनाव और हताशा को हाबी होने से रोकने के लिए खुद को भावनात्मक तौर पर मजबूत बनाईये। जिंदगी की सच्चाई को स्वीकर कीजिये। मन को मजबूत रखकर हालात का सामना करना ही इस समय सबसे सही आइडिया है। क्योंकि जो इमोनली स्ट्रांग नहीं होगा, वह हालात से टूट जाएगा। परिवार को हिम्मत दें, आपको अंदर से मजबूती मिलेगी।

2- दिमाग को रखें शांत-

यह विपदा पूरी दुनिया पर आई है, इसलिये आप अकेले नहीं हैं, आपकी ही तरह अरबों लोग इस क्राईसिस का सामना कर रहे हैं। जो बीमार हैं, वे सेहत के लिए लड़ रहे हैं, जो स्वस्थ्य हैं, वे पैसों, नौकरी, व्यापार और दूसरी समस्याओं से जूझ रहे हैं। ऐसे में सबसे जरूरी है। दिमाग को शांत रखना बहुत जरूरी है। क्योंकि एक शांत दिमाग बड़ी से बड़ी परेशानी का हल निकालने में मददगार होता है। इसलिये बार-बार खुद को यह दिलाना है, कि मुझे शांत रहकर हालात का सामना करना है। इसके लिए खुद को तुरंत योग, मेडीटेशन या व्यायाम से जोड़ लेना सही आइडिया है।

3-मानसिक तौर पर हों तैयार-

यह तय हो चुका है, कि यह लड़ाई कुछ दिनों, हफ्तों या महीनों की नहीं है, बल्कि लंबी चलने वाली है। आप ही की तरह कोई भी इसके लिए तैयार नहीं था। लेकिन अब हालात बदल चुके हैं। इसलिये खुद को आने वाले समय के लिए सबसे पहले मानसिक तौर पर तैयार करें। घबराने और भविष्य की चिंता करने के स्थान पर एक सैनिक की तरह सोचें कि, खुद को सुरक्षित रखते हुए इस लंबी लड़ाई में जीत कैसे हासिल करनी है। इस समय पूरी दुनिया ही जंग का मैदान बन गई है, कभी भी कुछ भी हो सकता है। ऐसे में एक सैनिक हर चीज का सामना करने के लिए तैयार होता है, आपको भी खुद को मानसिक तौर पर ऐसा ही तैयार करना होगा। जो आपके पास है, उसे सुरक्षित कीजिये और सही समय का इंतजार कीजिये। इस समय दो ही चीजें बचाना सबसे जरूरी है, अपनी सेहत और अपनी जान। -लेखक मोटीवेशनल स्पीकर हैं।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here