Loading...    
   


MP BIRD FLU: 3 जिलों में बर्ड फ्लू, बॉर्डर वाले इलाकों में खतरा

भोपाल
। जानलेवा संक्रामक बीमारी बर्ड फ्लू राजस्थान के रास्ते मध्य प्रदेश आ रही है। एमपी के तीन जिले इंदौर, खरगोन और मंदसौर में बर्ड फ्लू के संकेत मिल चुके हैं। राजस्थान की सीमा से लगे मध्य प्रदेश के सभी इलाकों में बर्ड फ्लू का खतरा बना हुआ है। स्वास्थ्य विभाग अपने तरीके से जांच कर रहा है। अभी तक घोषित नहीं हुआ है कि यह संक्रमण इंसानों में फेलेगा या नहीं परंतु जब तक रिपोर्ट नहीं आ जाती सावधान रहने की जरूरत है। 

इंदौर: डेली कॉलेज एवं आसपास के इलाके में संक्रमण

सीनियर वेटरनरी सर्जन डॉ प्रमोद शर्मा ने बताया, “अभी तक इंदौर मे डेली कॉलेज एरिया से 145 कौए मृत मिले हैं। हमें संदेह है कि इन सभी कौओं की मौत H5N8 एवियन फ्लू की वजह से हुई जिसकी भोपाल में HSDAL को मिले 5 सेम्पल्स में पहचान हुई है।” वहीं, पशुपालन मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने करते हुए बताया कि 'कौओं के सैम्पल भोपाल की स्टेट डीआई लैब भेजे गए हैं। इंदौर और मंदसौर से भेजे गए सैंपल में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है'।

मंदसौर: 3 दिन में 200 से ज्यादा कौओं के शव मिले

राजस्थान की सीमा से सटे मंदसौर में पिछले तीन दिन में 200 से ज्यादा कौए मृत पाए गए। इनमें से अधिकतर मंदसौर जिला कोर्ट परिसर में पाए गए। यहां से मृत कौओं के सेम्पल्स HSDAL को भेजे गए हैं। वहां से रिपोर्ट के नतीजों का इंतजार है लेकिन डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर ने स्वास्थ्य विभाग, पशुधन विभाग और म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन को आवश्यक SOPs का पालन करने के आदेश दिए है। साथ ही जहां जरूरत हो वहां समय से डिसइंफेक्शन सुनिश्चित करने के लिए भी कहा है।”  

खरगोन: पेड़ों से कौओं की लाशें गिर रही है

खरगौन के कसरावाड क्षेत्र में पिछले दो दिन में 20 कौए मृत मिले और इनकी संख्या बढ़ने की संभावना है। जिला प्रशासन ने वेटरनरी विभाग के फील्ड ऑफिसर्स को अलर्ट किया है। ये कदम इंदौर के सेम्पल्स के H5N8 के लिए पॉजिटिव पाए जाने के बाद उठाया है। जंगलेश्वर महादेव मंदिर क्षेत्र में रहने वाले लोगों का कहना है कि पिछले तीन दिनों से कसरावाड़ में पेड़ों से कौए मरने के बाद गिर रहे हैं। सामाजिक कार्यकर्ता और स्थानीय लोग मृत कौओं को ढूंढने में वेटरनरी विभाग के अधिकारियों की मदद कर रहे हैं।

05 जनवरी को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here