Loading...    
   


मंडला में शिक्षकों ने दक्षता परीक्षा के विरोध में प्रदर्शन किया - MP EMPLOYEE NEWS

मंडला।
अध्यापक शिक्षक संवर्ग छठवें वेतनमान के एरियर की तृतीय किस्त का भुगतान किया जाए ज्ञात हो कि लोक शिक्षण संचालनालय में आदेश जारी कर दिए गए हैं, 01 जुलाई 2018 से दिए सातवें वेतनमान के एरियर, DA एवं जुलाई 2019 की वेतन वृद्धि का भुगतान किया जाए। अध्यापक शिक्षक संवर्ग में 2006, 2007 एवं 2008 में नियुक्त प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षकों को 12 वर्ष की सेवा के उपरांत क्रमोन्नत वेतनमान का लाभ दिया जाए, अनेकों बार पत्राचार करने के बाद भी शिक्षक क्रमोन्नत वेतनमान से वंचित है। 

जिले में प्रतिनियुक्ति से आए एवं विभाग से स्थानांतरित होकर आए प्राथमिक, माध्यमिक एवं उच्च माध्यमिक शिक्षकों की विकासखंड मंडला, बिछिया एवं मवई मैं आईएफएमएस पोर्टल में जॉइनिंग नहीं हो रही है विगत 1 वर्ष से शिक्षक जोइनिंग नहीं ले पा रहे हैं आजतक विभाग द्वारा पदों की स्वीकृति प्रदान नहीं कराई गई। प्रतिनियुक्ति में आए शिक्षकों को  आदिवासी विकास विभाग में मर्ज किया जाए। बोर्ड परीक्षा शुरू होने का शासन ने टाइम टेबल जारी कर दिया है किंतु शिक्षक विहीन एवं विषय  आधारित शिक्षकों की  कमी को पूरा करने के लिए अतिथि शिक्षकों की व्यवस्था नहीं की जा रही है। मिसिंग एनपीएस की राशि का भुगतान भी नहीं किया जा रहा है।  

उपरोक्त मांगों के निराकरण हेतु माननीय मुख्यमंत्री महोदय के नाम कलेक्टर महोदय को ज्ञापन सौंपा गया एवं संगठन ने चेताया भी है कि यदि 10 दिवस के अंदर समस्याओं का निराकरण नहीं किया जाता है तो अनिश्चितकालीन धरना किया जाएगा।

जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने शिक्षकों की मांगों का समर्थन किया 

सांकेतिक धरना प्रदर्शन की जानकारी मिलते ही धरना स्थल पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष शैलेष मिश्रा जी पहुंचे और शिक्षको और के महिलाकी मान्गो का संज्ञान लिया  आश्वासन दिया कि अतिशीघ्र सभी मांगों का निराकरण किया जाएगा सभी मांग जायज है और उच्च स्तर पर मांगों के समर्थन में अपनी बात रखेंगे। 

आदिवासी विकास विभाग में सन्कुल व्यवस्था नहीं है वेतन भत्ता एवं अन्य समस्त क्लेम विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियो के पास है अतः सन्कुल व्यवस्था को समाप्त किया जावे एवं समस्त कार्य विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी कार्यालय से सम्पादित कराया जाये. जिले में कार्यरत प्राथमिक शिक्षको की क्रमोनति सूची जारी की जावे. निवास विकासखण्ड के प्रा.शा. देवगान्व में कार्यरत प्राथमिक शिक्षक  प्रहलाद गोन्ठिया का निलम्बन समाप्त कर बहाल किया जावे.  संविदा शिक्षक 3 श्री मनोज कुमार भासंत ने संविलियन के लिए 30 /07/2020 को समस्त दस्तावेज कार्यालय में उपलब्ध करा दिया किंतु आज दिनांक तक उनका संविलियन नहीं किया गया .सन्विलियन  कराया जावे।

दक्षता परीक्षा को निरस्त किया जाए

आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने आज माननीय मुख्यमंत्री के नाम एक और ज्ञापन सौंपा। जिसमें 40% से कम परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों की शिक्षकों की दक्षता परीक्षा को निरस्त करने की मांग की गई जिला अध्यक्ष संतोष सोनी ने बताया कि सत्र 2,019-20 में कोविड-19 के संक्रमण काल में परीक्षा आयोजित की गई कोविड-19 के कारण परीक्षार्थी मानसिक तनाव में भी रहे शासन ने कोविड-19 की कारण एक विषय की परीक्षा भी निरस्त की बेस्ट फाइव पद्धति कक्षा नौवीं एवं दसवीं में लागू की गई जिसके कारण छात्र कठिन विषयों पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाए जिन माध्यमिक शिक्षकों की भर्ती माध्यमिक शिक्षकों के पद पर माध्यमिक शाला में की गई है उन माध्यमिक शिक्षकों को हाई स्कूल एवं हायर सेकेंडरी के परीक्षा परिणाम के लिए दोषी ठहराया जाना अनुचित है जिन शालाओं का परीक्षा परिणाम विगत 5 वर्षों से अच्छा रहा है उसे भी ध्यान में नहीं रखा गया है जिन शाखाओं का वार्षिक परिणाम विगत 5 वर्षों से अच्छा रहा है। 

उसे भी ध्यान में नहीं रखा गया है माह दिसंबर, जनवरी एवं फरवरी में लगातार छात्रों की माध्यमिक बोर्ड परीक्षा आयोजित की गई जिससे छात्रों को वार्षिक परीक्षा हेतु तैयारी करने का पर्याप्त समय नहीं मिला बार-बार होने वाली परीक्षा के कारण छात्रों ने परीक्षा को गंभीरता से नहीं लिया लोक शिक्षण संचनालय से जारी किसी भी आदेश को आदिवासी विकास विभाग के कर्मचारियों के लिए मान्य नहीं किया गया विभाग अपने कर्मचारियों के लिए हमेशा पृथक् से आदेश जारी करता है किंतु आदिवासी विकास विभाग के द्वारा आज दिनांक तक कोई भी पत्र जारी नहीं किया गया उसके बावजूद भी आदिवासी विकास विभाग के शिक्षकों की परीक्षा आयोजित की जा रही है जिला अध्यक्ष संतोष सोनी ने बताया कि शासन पूरी शिक्षा पद्धति अपने ही नियम कायदे से चला रही है जिसका शिक्षक पूरी तरह से पालन कर रहे हैं तो फिर केवल शिक्षक ही दोषी क्यों? आज के धरना में जिले भर के अध्यापक शिक्षक सैकड़ों की संख्या में उपस्थित हुए। 

सहायक आयुक्त मण्डला को भी स्थानीय मांगो के निराकरण के लिए सौपा ज्ञापन 

आजाद अध्यापक शिक्षक सन्घ मण्डला के जिलाध्यक्ष ने बताया कि स्थानीय समस्याओं के निराकरण के लिए सहायक आयुक्त मण्डला आदिम जातीय कल्याण विभाग मण्डला को ज्ञापन दिया गया जिसमे सहायक आयुक्त कार्यालय से लम्बित प्रकरणो जैसे प्रतिनियुक्ति से आये शिक्षको की ifms पोर्टल पर ज्वाइनिन्ग, प्रोफ़ाइल पन्जीयन कराया जाना, प्राथमिक शिक्षको की क्रमोनति, प्रा शा में पदस्थ निलम्बित प्राथमिक शिक्षक प्रहलाद गोन्टिया की बहाली ,आदिवासी विकास विभाग के अनुसार सन्कुल व्यवस्था को समाप्त कर शिक्षको के समस्त कार्य विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी के द्वारा सम्पादित कराया जाना आदि शामिल हैं जिसके निराकरण के लिए सहायक आयुक्त मण्डला श्री विजय तेकाम ने एक सप्ताह में निराकरण का आश्वासन दिया,उक्त मान्गो के सम्बन्ध में आजाद अध्यापक शिक्षक सन्घ ने कहा कि तय किये गए समयावधि में निराकरण नहीं किये जाने पर अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन किया जावेगा।

क्या कहा सहायक आयुक्त ने
सहायक आयुक्त ने आश्वासन दिया कि आपकी उपरोक्त मांगों के निराकरण के लिए मुझे 10 जनवरी तक का समय दिया जाए 10 जनवरी तक में सभी शिक्षकों का संविलियन एवं क्रमोन्नति के आदेश जारी करवा दूंगा एवं शेष लंबित मामलों के लिए आयुक्त को पत्र लिखूंगा त्वरित कार्यवाही करते हुए रविवार को समस्त विकास खंड शिक्षा अधिकारियों की बैठक आहूत की गई है

क्या कहा जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने
जिला पंचायत उपाध्यक्ष महोदय ने कहा कि आपको धरने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी हमारी सरकार के रहते शिक्षकों को कभी सड़क पर नहीं आना पड़ेगा हम 1 सप्ताह के अंदर आपकी समस्याओं का निराकरण करवाएंगे।

27 दिसम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here