Loading...    
   


गाड़ियों और साइकिल के टायरों में कौन सी गैस भरी होती है / #सरलSCIENCE

हमारे वायुमंडल में पाई जाने वाली गैसों में सबसे अधिक मात्रा में पाई जाने वाली गैस नाइट्रोजन है। जो सर्वाधिक मात्रा में पाई जाती है ,लगभग 78%  यह जितनी अधिक मात्रा में उपस्थित होती है, उतना ही इसका उपयोग भी है।

आइए नाइट्रोजन गैस के उपयोग जानते है

* हमारे शरीर में प्रोटीन के निर्माण में नाइट्रोजन गैस अति आवश्यक है।
* पेड़- पौधों की वृद्धि तथा विकास के लिए नाइट्रोजन गैस अति आवश्यक है।
* NPK(nitrogen, phosphorous, potassium) तथा यूरिया जैसे अन्य रासायनिक उर्वरकों को बनाने में।
* विद्युत बल्बों में ऑर्गन (93%) व नाइट्रोजन(7%) का मिश्रण भरा होता।
* गाड़ियों तथा साइकिल के टायरों में  भरा जाता है।
* चिप्स तथा अन्य पैकेट बंद खाद्य पदार्थों  के परिरक्षण में।

नाइट्रोजन का इतनी अधिक मात्रा में उपयोग होने का कारण?

तो आइए सरल साइंस की भाषा में समझते है।

चूँकि नाइट्रोजन एक कम क्रियाशील गैस है। इस कारण यह आसानी से किसी से भी क्रिया नहीं करती। इसी कारण इसका उपयोग इतनी अधिक मात्रा में किया जाता है। कम क्रियाशील होने के कारण यह निर्वात अर्थात vaccum बना लेती है। जिस कारण वस्तुएं खराब नहीं होती चाहे। चिप्स के पैकेट के अंदर उपस्थित चिप्स हों या विद्युत बल्ब के अंदर उपस्थित फिलामेंट।

इतनी अधिक मात्रा में नाइट्रोजन कहां से आती है?

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हमारे वायुमंडल में 78% नाइट्रोजन उपस्थित होती है परंतु फिर भी यह आसानी से उपयोग के योग्य नहीं होती। जब तक कि यह अपने अवयवों -नाइट्रेट तथा नाइट्राइट में नहीं टूट जाती, तब तक यह उपयोग के योग्य नहीं होती।

इस कार्य के लिए नाइट्रोजन स्थिरीकरण करने वाले बैक्टीरिया महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। यूरिया से अमोनिया का निर्माण (अमोनीकरण) बारिश के मौसम में बिजली चमकने से  नाइट्रेट तथा नाइट्राइट का निर्माण आदि क्रियाएं महत्वपूर्ण होती हैं।
* इसी कारण प्रकृति में नाइट्रोजन की मात्रा को स्थिर बनाए रखने के लिए नाइट्रोजन चक्र पाया जाता है जिसे एक आदर्श चक्र माना जाता है। 
लेखक श्रीमती शैली शर्मा मध्यप्रदेश के विदिशा में साइंस की टीचर हैं। (Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article)

विज्ञान से संबंधित सबसे ज्यादा पढ़ी गईं जानकारियां



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here