कोरोनावायरस: इंदौर में आइसोलेशन वार्ड शिफ्ट होगा, अब तक 25 संदिग्ध | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

कोरोनावायरस: इंदौर में आइसोलेशन वार्ड शिफ्ट होगा, अब तक 25 संदिग्ध | INDORE NEWS

इंदौर। इंदौर में अब तक करुणा वायरस के कुल 25 संदिग्ध मरीज मिले हैं। इनमें से 14 मरीजों को भर्ती किया गया शेष 11 मरीजों को उनके घर में ही आइसोलेशन में रखने के लिए कहा गया। सभी मरीजों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। कोरोना वायरस के मरीजों को विशेष चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए एमआर टीवी अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाया गया था जिसे अब शिफ्ट किया जा रहा है। 

टीबी अस्पताल में बनाया जाएगा कोरोना वायरस मरीजों का आइसोलेशन वार्ड

कलेक्टर लोकेश जाटव ने अस्पताल पहुंचकर उसकी व्यवस्थाएं देखी। गुरुवार को कलेक्टर लोकेश जाटव, डॉ. ज्योति बिंदल, सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिया समेत अन्य अधिकारी एमआर टीबी अस्पताल पहुंचे। यहां करीब 50 बेड का आइसाेलेशन वार्ड भी बनाया गया है। अभी तक एमवायएच परिसर में बने पीजी ब्लॉक में यह वार्ड बनाया गया था, लेकिन अब इसे टीबी अस्पताल में शिफ्ट किया जा रहा है। यहां भर्ती मरीजों को एमवायएच शिफ्ट किए जाने पर विचार किया जा रहा है।

व्हाट्सएप के मैसेजेस पर भरोसा ना करें: कलेक्टर लोकेश जाटव

इस दौरान कलेक्टर जाटव ने कहा कि वाॅट्सएप पर कई तरह के मैसेज चल रहे हैं, जिसे लेकर भ्रम की स्थिति बन रही है। वाॅट्सएप पर चल रहे मैसेज पर विश्वास नहीं करें। स्वास्थ्य विभाग, यूनिसेफ, डब्ल्यूएचओ, आयुष विभाग अधिकृत हैं। इनके अलावा जो लोग मैसेज चला रहे हैं, वह विश्वसनीय नहीं हैं। हम जो एडवाइजरी जारी कर रहे हैं, वही विश्वसनीय है। उसी का पालन करें।

वर्तमान में 8 मरीज अस्पताल में भर्ती

सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जडिया ने बताया कि पीसी सेठी अस्पताल में और महू के आर्मी अस्पताल में एक आइसाेलेशन वार्ड है। टीबी अस्पताल में 50 बेड का नया आइसाेलेशन वार्ड बनाया गया है। उन्होंने बताया कि अब तक बीमारी के लक्षण वाले 8 संदिग्ध मरीज मिले, जिनकी जांच पुणे और नागपुर की लैब में की गई। अस्पताल से डिस्चार्ज के बाद भी बीमारी के लक्षण वाले मरीजों को घर में ही आइसाेलेशन में रहने के लिए कहा गया है।

11 मरीजों को घर में ही आइसोलेशन में रखा गया

30 जनवरी के बाद एमवायएच के टीबी एंड चेस्ट विभाग में कुल 4911 मरीज पहुंचे। डॉक्टरों की टीम ने इनमें से 17 लोगों को संदिग्ध मरीजों की श्रेणी में रखा। इनमें भी 11 मरीज ऐसे थे, जिनमें घर में ही आइसोलेशन में रहने के लिए कहा गया था। 6 मरीज ऐसे थे, जिन्हें लक्षणों के आधार पर भर्ती किया गया। सभी की रिपोर्ट नेगेटिव आई है।