OMG! मप्र में महिला ने एक साथ 6 बच्चों को जन्म दिया, 4 लड़के, 2 लड़कियां
       
        Loading...    
   

OMG! मप्र में महिला ने एक साथ 6 बच्चों को जन्म दिया, 4 लड़के, 2 लड़कियां

भोपाल। मध्यप्रदेश के श्योपुर जिला अस्पताल में एक महिला ने एक साथ 6 बच्चों को जन्म दिया। यह देखकर डॉक्टर और मौजूद स्टाफ भी चौक गया। सभी हैरान हैं, डॉक्टर का कहना है कि अपने जीवन में उन्होंने ऐसा कभी नहीं देखा और ना ही कभी सुना है। महिला का प्रसव 6 माह में किया गया। उसे अत्यधिक प्रसव पीड़ा हो रही थी। यह डिलीवरी सामान्य थी। 6 संतानों में 4 लड़के हैं और 2 लड़कियां। दोनों लड़कियों की जन्म के कुछ देर बाद ही मृत्यु हो गई। चारों बालक एवं महिला स्वस्थ है।

6 माह के गर्भ में डिलिवरी की गई

श्योपुर जिले के बड़ौदा कस्बा निवासी मूर्ति पत्नी विनोद माली को करीब साढ़े छह माह का गर्भ था। शनिवार को पेटदर्द की शिकायत पर महिला को परिजनों ने जिला अस्पताल में भर्ती कराया। डॉक्टर ने प्राथमिक परीक्षण के बाद महिला को सोनोग्राफी कराने की सलाह दी। जिसमें महिला के गर्भ में चार बच्चे दिखाई दिए, महिला को प्रसव पीड़ा अधिक होने पर डॉक्टर ने उसकी डिलिवरी कराने का निर्णय लिया। 

सभी हैरान, 28 साल के करियर में ऐसा कभी नहीं देखा

सामान्य प्रसव के दौरान जब चार से अधिक बच्चे पैदा हुए तो यह देखकर प्रसव कराने वाले डॉक्टर और पूरा स्टॉफ हैरान रह गया। प्रसव कराने वाले डॉक्टर बीएल यादव का कहना है कि उनके करीब 28 साल के करियर में यह पहली घटना है। जहां उन्होंने 6 बच्चों का एक साथ प्रसव कराया है। महिला की हालत खतरे से बाहर बताई गई है।

चर्चा का विषय बना छह बच्चों का जन्म 

अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. आरबी गोयल का कहना है कि आज सुबह ही प्रसव हुआ और महिला ने 6 बच्चों को जन्म दिया है। हालांकि बच्चों का जन्म समय से पहले हुआ है, इसलिए उनका वज़न कम है। उन्हें शिशु गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती कराया गया है। अस्पताल में 6 बच्चों को जन्म देने वाली महिला पूरे शहर में चर्चा का विषय है।

सागर में महिला ने दिया 4 बच्चों को जन्म दिया था

25 सितंबर 2018 को सागर जिले के बंडा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एक महिला ने चार बच्चों को जन्म दिया था। अस्पताल की नर्स गीता साहू ने बताया कि महिला ने सुबह 8.20 बजे पहले शिशु, 8.30 बजे दूसरे, 8.40 पर तीसरे तथा 8.47 पर चौथे शिशु को जन्म दिया। उन्होंने बताया इनमें तीन बालक एवं एक बेटी है। हालांकि बच्चों का वजन बेहद कम था। इनमें दो बच्चों का वजन 550-550 ग्राम जबकि अन्य दो बच्चों का वजन 500-500 ग्राम निकला था। जबकि एक स्वस्थ शिशु का जन्म के समय सामान्य वजन 2.500 किलोग्राम होना चाहिए। चारों बच्चे अब स्वस्थ्य हैं।