Loading...

मुसलमानों के सबसे बड़े धार्मिक आयोजन 'आलमी तब्लीगी इज्तिमा' में मांसाहारी भोजन नहीं होगा | MP NEWS

भोपाल। इस बार का आलमी तब्लीगी इज्तिमा ग्रीन-क्लीन की थीम पर आयोजित किया जा रहा है। यानी पॉलिथीन का उपयोग पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगा। वहीं इज्तिमा कमेटी ने एक ऐतिहासिक निर्णय लिया है कि इस बार जायरीनों को शाकाहारी खाना ही उपलब्ध कराया जाएगा। यहां नॉनवेज नहीं बंटेगा। इसके लिए 15 एकड़ जमीन पर खाने के लिए 50 फूड जोन बनाए जा रहे हैं। वहीं नीचे बैठ कर खाना खाने की भी व्यवस्था की जा रही है। खास बात तो यह है कि खाना गैस चुल्हे पर पका हुआ नहीं होगा, बल्कि भट्टी में लकड़ी से पकाया जाएगा। खाने के फूड जोन में रहने वाले हर कर्मचारी का पुलिस वैरिफिकेशन पहले कराना होगा।

इज्तिमा के प्रशासनिक कर्ता-धर्ता अतीक उर रहमान इस्लाम ने बताया कि इस बार 40 रुपए में खाने की थाली उपलब्ध कराई जाएगी। 50 से अधिक फूड जोन बनाए जाएंगे। वहीं इस बार आयुर्वेद और यूनानी दवाखानों की व्यवस्था भी शासन द्वारा की जा रही है। इनके लिए अलग से स्टॉल लगाए जाएंगे। मेले में तीन दिन तक जो रुकेगा उनके के लिए टेंट और बिछात की व्यवस्था कमेटी द्वारा की जाएगी। सोने और ओढ़ने का सामान जमाती खुद लेकर चलते हैं। खाना बनाने के लिए लकड़ी की व्यवस्था कमेटी कर रही है। कहीं भी गैस का उपयोग नहीं किया जाएगा, हालांकि यह निर्णय सुरक्षा की दृष्टि से लिया गया है।

नहाने के लिए मिलेगा गर्म पानी, बजु के लिए होंगे विशेष इंतजाम

अतीक उर रहमान इस्लाम ने बताया कि नहाने के लिए गर्म पानी उपलब्ध रहेगा। बुजू के लिए भी विशेष इंतजाम किए जा रहे हैं। कलेक्टर ने कहा कि इज्तिमा के सभी इंतजाम तीन दिन पूर्व पूरे कर लिए जाएं। सड़क, पीने के पानी की व्यवस्था, लाइट और आपातकालीन स्थितियों में फायर ब्रिगेड के आने जाने के लिए विशेष इंतजाम किए जाएंगे। डीआईजी इरशाद वली ने कहा कि नमाजियों के लिए किसी प्रकार की समस्या न हो इसके लिए विशेष रूप से वालेंटियर्स भी रखे जा रहे हैं। उनको इज्तमा कमेटी द्वारा कार्ड उपलब्ध कराए जाएंगे। पार्किंग एवं अन्य व्यवस्थाओं के लिए अलग से जगह को चि-ति कर लाइट के विशेष इंतजाम होंगे।

हर टीम के पास होगा एंटी वेनम इंजेक्शन

कलेक्टर और डीआईजी ने सोमवार को इज्तिमा स्थल का निरीक्षण किया। इस दौरान कलेक्टर ने निर्देश दिए कि स्थल के आसपास स्वास्थ्य विभाग की टीम तैनात रहे और उनके पास एंटी वेनम इंजेक्शन हमेशा उपलब्ध रहें। इज्तिमा स्थल पर 10 से 12 लाख लोगों के आने की संभावना है। इसके लिए सभी व्यवस्थाएं समय पर पूर्ण हों। बैठक में डीआईजी इरशाद वली ने कहा कि रास्ते में कहीं भी ब्लैक स्पॉट नहीं होना चाहिए। सब जगह रोशनी हो विशेषकर पार्किंग और रास्तों पर रोशनी की व्यवस्था की जाए। 20 नवंबर को लाइटिंग व्यवस्था की फाइनल टेस्टिंग हो जानी चाहिए। कलेक्टर व डीआईजी ने निरीक्षण के दौरान मेले के प्लान को भी देखा, समीक्षा के दौरान इज्तिमा के प्रशासनिक कर्ता-धर्ता अतीक उर रहमान इस्लाम, इज्तिमा जमात के प्रभारी आरिफ गौहर और ग्राउंड के प्रभारी भी उपस्थित थे।