Loading...

SATNA की श्वेता सिंह ने खुद को अविवाहित बताया था, हाईकोर्ट में पति पेश हो गया

जबलपुर। मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन सतना में समूह प्रेरक के पद पर पदस्थ श्वेता सिंह ने पिछले दिनों खुद को अविवाहित बताते हुए अपना ट्रांसफर रुकवा लिया था। अब उसका सैनिक पति दिल्ली से आकर हाइ्रकोर्ट के सामने पेश हो गया। उसने बताया कि श्वेता सिंह झूठ बोल रही है, वो विवाहित है एवं उसकी पत्नी है। 

सैनिक आशीष कुमार सिंह ने पुनर्विचार याचिका दायर कर कहा कि वह दिल्ली में पदस्थ है। उसका विवाह 2013 में सतना निवासी श्वेता से हुआ। इसके बाद उसकी पत्नी श्वेता सिंह से वैवाहिक विवाद के चलते कई प्रकरण निचली अदालत से लेकर सर्वोच्च न्यायालय तक लंबित है। श्वेता मध्य प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन सतना में समूह प्रेरक के पद पर पदस्थ है। स्थानांतरण सतना से सीधी होने पर श्वेता ने हाईकोर्ट में स्थानांतरण आदेश को चुनौती दी। उसने हाई कोर्ट के समक्ष पेश शपथपत्र में कहा कि वह अविवाहित है, उसके पिता उस पर निर्भर हैं।

कोर्ट में झूठा शपथपत्र- 

अधिवक्ता मनोज कुशवाहा ने दलील दी कि श्वेता के इस झूठ को सच मानकर कोर्ट ने उसका स्थानांतरण आदेश स्थगित कर दिया। याचिकाकर्ता को जब इस बात की जानकारी हुई कि विवाहित होने के बाद भी उसकी पत्नी श्वेता सिंह ने जानबूझकर अदालत में झूठा शपथ-पत्र पेश किया। जिसके खिलाफ यह पुनर्विचार याचिका दायर की गई। जिसके जरिए आग्रह किया गया कि श्वेता का तबादला स्थगित करने का उक्त आदेश निरस्त किया जाए। इसके लिए उसके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई भी की जाए। प्रारंभिक सुनवाई के बाद न्यायमूर्ति विशाल धगट की एकलपीठ ने याचिका को गंभीरता से लेकर सैनिक की पत्नी सहित अन्य को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण तलब कर लिया।