Loading...

खबर का असर: राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन का भर्ती विज्ञापन निरस्त, नया जारी होगा | MP NEWS

भोपाल। एक बार फिर भोपाल समाचार की खबर का असर हुआ है। कुल 3450 रिक्त पदों के लिए जारी हुआ भर्ती विज्ञापन निरस्त कर दिया गया है। अब नए सिरे से नया भर्ती विज्ञापन जारी होगा जिसमें आयु सीमा वही होगी जो मध्य प्रदेश में सामान्य प्रशासन विभाग द्वारा निर्धारित की गई है। बताने के मध्य प्रदेश में कुल 3450 कम्युनिटी हेल्थ ऑफिसर (सीएचओ) की भर्ती की जानी है।

बता दें कि बुधवार को जारी विज्ञापन में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन नहीं आयु सीमा मध्यप्रदेश में निर्धारित अधिकतम आयु से 5 वर्ष कम तय कर दी थी। उम्मीदवारों ने इस संदर्भ में भोपाल समाचार को मंच बनाकर अपनी आवाज उठाई। अंततः जिम्मेदारों को भी यह मानना पड़ा कि चूक हो गई है। अब राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की ओर से कहा जा रहा है कि जून में जारी किए गए विज्ञापन की शर्तें नए विज्ञापन में शामिल कर दी गई इस कारण यह चूक हो गई। 

प्रदेश के हेल्थ एवं वेलनेस सेंटर 'आरोग्यम" में सीएचओ के पद पर आयुर्वेद डॉक्टरों, बीएससी व जीएनएम पास नर्सों की भर्ती के लिए बुधवार को एनएचएम की तरफ से विज्ञापन जारी किया गया था। इसमें अधिकतम आयु सीमा अनारक्षित वर्ग के लिए 35 साल व आरक्षित वर्ग और महिला उम्मीदवारों के लिए 40 साल रखी गई थी।

जबकि, सामान्य प्रशासन विभाग ने इसी साल जुलाई में अधिकतम उम्र सीमा क्रमश: 40 व 45 साल कर दी है। इसकी परवाह किए बिना ही एनएचएम ने अखबारों में विज्ञापन जारी कर दिया। इन पदों एमपी ऑनलाइन के जरिए भर्तियां की जानी हैं। एमपी ऑनलाइन में अभी पंजीयन की प्रक्रिया जारी नहीं हुई। आयु सीमा में संशोधन के बाद एमपी ऑनलाइन से नियुक्तियां की जाएंगी।

IGNOU से BSC को मान्यता नहीं, सर्टिफिकेट कोर्स भी IGNOU से करा रहे

विज्ञापन में साफ कहा गया है कि इग्नू, भोज विवि व दूरवर्ती शिक्षा से बीएससी नर्सिंग उत्तीर्ण नर्सों को योग्य नहीं माना जाएगा। उधर, जिस छह महीने के सीएचओ कोर्स के लिए उन्हें अयोग्य करार दिया जा रहा है, वह कोर्स इग्नू व मप्र मेडिकल साइंस यूनिवर्सिटी से ही कराया जा रहा है। इस संबंध में एनएचएम के अफसरों ने कहा कि दूरवर्ती शिक्षा को मान्य नहीं किया जा रहा है, इसलिए भोज व इग्नू विवि की डिग्री को मान्य नहीं किया जा रहा है।

संशोधन किया जा रहा है

विज्ञापन में जारी अधिकतम उम्र की सीमा में संशोधन किया जा रहा है। शासन के नए दिशा-निर्देशों के आधार पर ही आयु सीमा रखी जाएगी।
-ऊषा परमार, अपर मिशन संचालक, एनएचएम