Loading...

हनी ट्रैप: मां लोगों को फंसाकर लाती, बेटी संबंध बनाती, फिर शुरू होती ब्लैकमेलिंग का खेल | CRIME NEWS

पातड़ां (पटियाला)। यहां अनोखे तरीके से हनीट्रैप में फंसा कर ब्‍लैकमेेलिंग करने के रैकेट का खुलासा हुआ है। यह खेल मां-बेटी की जोड़ी कुछ अन्‍य लोगों के साथ मिलकर चला रही थी। 46 साल की मां सड़क पर बहाना बनाकर वाहन चालकों से लिफ्ट लेती थी और चाय पिलाने के बहाने घर में ले जाती थी। वहां उसकी बेटी व बेटी की सहेली ऐसे लोगों से शारीरिक संबंध बनाकर हनीट्रैप में फंसाती थी।

पुलिस ने महिला और उसकी बेटी सहित तीन को गिरफ्तार किया

पुलिस ने महिला, उसकी बेटी और एक अन्‍य युवती को गिरफ्तार कर लिया है। एक महिला फरार है। पुलिस ने बताया कि पातड़ां थाना इलाके में 46 साल की एक महिला लोगों से लिफ्ट लेकर उनसे परिचय बढाती थी। बातों में फंसाकर वो लिफ्ट देने वाले को अपने घर ले जा थी। फिर अपनी 25 साल की बेटी से संबंध बनवाने के बाद उसे ब्लैकमेल करती थी। हनीट्रैप में फंसाकर ब्‍लैकमेलिंग का यह खेल पातड़ा के गांव चुनागरां रोड में चल रहा था। जिसका पर्दाफाश करते हुए पुलिस ने मां-बेटी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया है। 

संबंध बनाने के बाद रूप बदलतीं थीं 

थाना पातड़ां के इंचार्ज रणबीर सिंह ने बताया कि यह घिनौना खेल पिछले कुछ समय से चल रहा था। इस बारे में हरियाणा के कैथल के बलदेव सिंह की शिकायत पर केस दर्ज किया गया था। इन तीनों को गिरफ्तार कर अदालत में पेश कर एक दिन का पुलिस रिमांड लिया है।

ऐसे फंसाया जाता था

पुलिस के अनुसार 46 साल की महिला सड़क पर पैदल लंगड़ा कर चलती थी। इस नाटक के जरिए वह वाहन से जा रहे लोगों से लिफ्ट मांगती थी। इसके बाद इन्हें घर ले जाकर चाय पीने को कहती थी। इसी दौरान घर पर मौजूद उसकी बेटी व उसकी सहेली उस व्‍यक्ति को बहलाकर शारीरिक संबंध बनाती थीं। फिर उसके दस्तावेज, पर्स और मोबाइल रखने के बाद ब्लैकमेल कर मोटी रकम वसूल करती थीं।

पुलिस  ने बताया कि 30 सितंबर को कंबाइन का काम करने वाला बलदेव सिंह इसी इलाके से गुजर रहा था। उससे भी महिला ने लिफ्ट मांगी। इसके बाद घर पहुंचने पर चाय पीने की बात कह कर घर में ले गई। बलदेव सिंह भी थका होने के कारण रुक गया। यहां पर इन लोगों ने बेटी को संबंध बनाने के लिए आगे कर दिया। इसके बाद बलदेव का मोबाइल, आधार कार्ड व एक हजार रुपये छीन लिए। फिर पचास हजार रुपये और मांगने लगे।

थाना पातड़ां के इंचार्ज रणबीर सिंह ने बताया कि बलदेव सिंह ने बदनामी होने के डर से 25 हजार रुपये में सौदा तय कर लिया लेकिन रुपये मिलने के बाद भी महिला और उसकी बेटी ने सामान नहीं लौटाया। घर पहुंचकर बलदेव ने अपने जीजा को सारी बात बताई और फिर थाना पातड़ां पुलिस को शिकायत दी। इसके बाद पुलिस ने बलदेव को 10 हजार रुपये लेकर महिला के घर भेजा। इसी दौरान पुलिस ने दबिश देकर बलदेव का आधार कार्ड व अन्य सामान बरामद कर तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

केस दर्ज होते ही तीन और पीडि़त थाने पहुंचे

थाना इंचार्ज रणबीर सिंह ने बताया कि केस दर्ज होने का पता चलते ही तीन अन्य पीडि़त भी थाने पहुंचे और महिला व उसकी बेटी द्वारा ब्‍लैकमेल करने का आरोप लगाए। पुलिस ने बयान दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। फिलहाल इन तीनों पीडि़तों को केस में शामिल करते हुए गवाह बनाया गया है। इसके अलावा पुराना रिकार्ड चेक किया है, इसमें इन लोगों पर जिस्मफरोशी के केस दर्ज हैं।