Loading...

भिंड-मुरैना से BHOPAL भेजा जा रहा है सिंथेटिक पनीर

भोपाल। दीपावली का त्यौहार नजदीक आते ही नकली पनीर एवं मावे की सप्लाई तेज हो गई है। ग्वालियर संभाग के भिंड और मुरैना में अभी भी बड़ी मात्रा में नकली एवं स्वास्थ्य के लिए हानिकारक सिंथेटिक पनीर बनाया जा रहा है। हाल ही में वहां हुई एक कार्यवाही में भोपाल के लिए भेजा जा रहा 250 किलो से ज्यादा पनीर जप्त किया गया है। यह तो केवल एक मामला है जो प्रमाणित करता है कि भिंड और मुरैना से भोपाल के लिए भारी मात्रा में नकली एवं स्वास्थ्य के लिए हानिकारक पनीर भेजा जा रहा है।

भोपाल में छापामारी के लिए कोई टीम तैनात नहीं 

संता टेक पनीर ट्रेन और बसों के जरिए भोपाल भेजा जा रहा है। यह नियमित रूप से दिल्ली सप्लाई किया जा रहा है। मुरैना में पकड़े गए एक कारोबारी ने बताया कि वह ₹240 प्रति किलो के भाव से भोपाल के करीब 28 कारोबारियों को सिंथेटिक पनीर सप्लाई करता है। बड़ा सवाल यह है कि भोपाल में रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों पर कोई भी टीम तैनात नहीं है जो दूसरे शहरों से आने वाले नकली पनीर को पकड़ सके।

सिंथेटिक पनीर नुकसानदायक क्यों होता है 

पनीर जिसे आप बाजार से ₹300 किलो खरीद रहे है, हो सकता है वो नकली पनीर हो जिसकी लगता सिर्फ ₹30 किलो होती है। इसे नकली पनीर या सिंथेटिक पनीर कहते हैं। नकली/ मिलावटी पनीर अक्सर यूरिया, डिटर्जेंट, कोल् तार डाई, सल्फारिक अम्ल इत्यादि से बनाया जाता है। अब तो आप समझ ही गए होंगे कि स्वास्थ्य के लिए कितना हानिकारक हो सकता है।

नकली पनीर बनाने का सबसे प्रचलित तरीका कुछ ऐसा है:

थोड़ा सा दूध में सोडियम बाई-कार्बोनेट यानि बेकिंग सोडा डालते है।
फिर इस मिश्रण को सस्ते वनस्पति तेल में मिलाया जाता है।
इसके बाद इसमें बेकिंग पाउडर डाल कर पनीर बनाने के लिए छोड़ दिया जाता है।

असली पनीर की पहचान कैसे करे ?

कुछ तरीके है जिसकी मदद से आप घर बैठे भी जाँच कर सकते है और कुछ जाँच के लिए, दवाई कि दुकान से आपको एक चीज लानी रहेगी बस।
हम पनीर के रंग, रूप, स्वाद, महक इत्यादि जांचा जाता है।
शुद्ध पनीर मजबूत और मुलायम होता है, रंग बिल्कुल सफेद। इसकी सतह की बनावट एकदम बारीक़ बुनाई जैसी होगी। इसको मसलने पर टूटेगा नहीं। इसकी खुशबू और स्वाद दूध जैसी और लजीज लगती है।

नकली पनीर की पहचान कैसे करें 

ठोस और रबर जैसा महसूस होगा,रंग भी हो सकता है एकदम सफ़ेद न हो। और बेकिंग सोडा मिला होने का कारण हल्का सा मसलने पर भी टूट जाता है। इसकी महक अजीब होगा, बेस्वाद या हल्का स्वाद होगा। धुए जैसी भी महक हो सकती है।