Loading...

google birthday: 21 साल का हो गया आपका बफादार गूगल

दुनिया का सबसे लोकप्रिय सर्च इंजन और आपका बफादार सहायक गूगल आज अपना 21वां जन्मदिन मना रहा है। इन 21 सालों में गूगल एक सर्च इंजन से कहीं ज्यादा हो गया है। यदि भारत की बात करें तो यह (google) भारत के 60 करोड़ लोगों का सबसे बफादार दोस्त और सहायक है जो चुपचाप अपना काम करता रहता है, उन लोगों की भी मदद करता है जो इसे गालियां देते हैं। गूगल से जुड़े लोग पुराने दिनों को याद कर रहे हैं। बता दें कि गूगल की स्थापना साल 1998 में कैलिफॉर्निया की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के दो पीएचडी छात्र लैरी पेज और सर्गी ब्रिन ने की थी। 

गूगल का पहला नाम Backrub था

गूगल का प्रारम्भिक मुखपृष्ठ एक साधारण डिजाइन था। 
गूगल को ऑफिशली लॉन्च करने से पहले इन पेज और ब्रिन ने इसका नाम 'Backrub' रखा था, लेकिन बाद में इसे गूगल कर दिया गया था। जिस वक्त वर्ल्ड वाइड वेब जब अपने शुरुआती दौर में था तब इन दोनों छात्रों ने एक ऐसा सिस्टम बनाने की कल्पना की थी जो दुनियाभर की जानकारी जो सभी के लिए उपलब्ध कराए। उनकी इसी सोच ने गूगल को जन्म दिया।

गूगल के जन्मदिन में कंफ्यूजन

साल दर साल गूगल का बर्थडे बदलता रहा है। साल 2005 तक गूगल अपना बर्थडे 7 सितंबर को मनाता था। इसके कुछ साल बाद कंपनी ने अपना बर्थडे 8 सितंबर और 26 सितंबर को मनाया और हाल में इसे 27 सितंबर कर दिया गया है।

1998 में बनाया पहला डूडल

गूगल ने डूडल बनाने की शुरुआत साल 1998 से ही कर दी थी। कंपनी ने पहला डूडल बर्निंग मैन फेस्टिवल के सम्मान में बनाया था। पहला डूडल बनाने के बाद गूगल ने इसे एक परंपरा बना दी। आज गूगल हर खास मौके को डूडल के जरिए सेलिब्रेड करता है। इतना ही नहीं, गूगल ने डूडल बनाने के लिए एक खास टीम को भी तैनात कर रखा है जो केवल इसी काम को करती है।

100 से अधिक भाषाओं में करता है काम

आज गूगल दुनियाभर का सबसे पसंदीदा सर्च इंजन है और यह 100 से अधिक भाषाओं में काम करता है। पिछले 20 सालों में कंपनी ने तरक्की की नई ऊंचाईयों को छुआ और आज यह दुनिया की टॉप मल्टीनैशनल टेक्नॉलजी कंपनी है। गूगल को शुरुआत में याहू और आस्क जीव्स जैसे सर्च इंजन्स से कड़ी टक्कर मिली। हालांकि, गूगल ने समय के साथ अपनी सेवाओं को बेहतर किया और दुनिया का सबसे पॉप्युलर सर्च इंजन बन गया। गूगल की पैरंट कंपनी Alphabet Inc है और पिछली साल इसकी कुल संपत्ति 137 बिलियन डॉलर थी।

लगभग हर आदमी का सहायक है गूगल

यदि 2019 की बात करें तो मात्र 21 साल में गूगल लगभग हर आदमी का सहायक बन चुका है। गूगल उन लोगों के लिए भी बतौर सहायक काम कर रहा है जो गूगल में सर्च करना तक नहीं जानते। आपके लिए मनचाही जान​कारियां ढूंढकर लाने से लेकर आपको रास्ता बताने तक। आपकी मनपसंद फिल्म से लेकर आपके बच्चों की पढ़ाई तक गूगल हर काम में आपका सहयोगी बना हुआ है।