Loading...

DIGVIJAY SINGH मप्र के शैडो सीएम हैं, ये रहा प्रमाण | MP NEWS

भोपाल। पिछले दिनों वन मंत्री उमंग सिंघार ने कहा था कि दिग्विजय सिंह मध्य प्रदेश के 'शैडो सीएम' हैं और अपने पत्र सोशल मीडिया में वायरल करके वो सबको यह बताना चाहते हैं कि वही प्रदेश का पॉवरसेंटर हैं। दिग्विजय सिंह ने इसका खंडन किया था, कहा था कि मैं सरकार का अंग नहीं हूं, मैं राज्यसभा सदस्य हूं, इसलिए मेरे दस्तखत से सरकार में कोई काम नहीं होता लेकिन अब एक ऐसा दस्तावेज सोशल मीडिया पर सामने आया है जो यह प्रमाणित करता है कि दिग्विजय सिंह 'शैडो सीएम' हैं और सरकारी कामों में हस्तक्षेप भी करते हैं। 

विधायक संजय यादव ने सोशल मीडिया पर क्या लिखा

बरगी विधायक संजय यादव ने एक पत्र लिखा है। उन्हीं ने इसे सोशल मीडिया पर अपलोड भी किया है। अपना पत्र अपलोड करते हुए विधायक संजय यादव ने लिखा है 'माननीय श्री दिग्विजय सिंह जी, ( दिग्विजय सिंह @digvijaya_28 को टैग भी किया) हमारी भारतीय संस्कृति के अनुसार पूर्ववत दशहरा से दीपावली तक 7 से 8 दिवस तक स्कूली छात्रों को अवकाश मिलना चाहिए। जबकि सदन में यह सर्वसम्मति से पारित हो चुका है। त्वरित लागू कराने की कृपा करें एवं सम्बंधित उच्चाधिकारियों को निर्देशित करें।

विधायक संजय यादव ने पत्र में क्या लिखा


पत्र दिग्विजय सिंह को संबोधित किया गया है। पत्र की शुरूआत में उन्होंने विषय के संदर्भ में संक्षिप्त विवरण दिया। अंत में निवेदन किया 'अत: आपसे निवेदन है कि सदन में पारित अशासकीय संकल्प को कड़ाई से लागू करने हेतु आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय को निर्देशित करने की कृपा करें।'

इसमें आपत्तिजनक क्या है

यह पत्र मुख्यमंत्री या स्कूल शिक्षा मंत्री को संबोधित किया गया होता तो उचित था। दोनों सरकार के अंग हैं परंतु एक राज्यसभा सदस्य कैसे आयुक्त लोक शिक्षण संचालनालय को निर्देशित कर सकता है कि वो विधानसभा में पारित अशासकीय संकल्प को लागू करे। बड़ा सवाल यह है कि मुख्यमंत्री और स्कूल शिक्षा मंत्री के रहते एक विधायक क्यों एक राज्यसभा सदस्य को निवेदन कर रहा है।