Loading...

VYAPAM GHOTALA: 1000 से ज्यादा शिकायतें पेंडिंग, मंत्री बोले: नए तथ्य आए तो जांच कराएंगे

भोपाल। मध्य प्रदेश में हुए व्यापमं घोटाला में 1000 से ज्यादा शिकायतें ऐसी हैं जिनकी अब तक जांच नहीं हुई है। ये सभी शिकायतें एसटीएफ को मिलीं थीं परंतु व्यापमं घोटाले की सीबीआई जांच के आदेश हो गए। सीबीआई ने कुछ चुनिंदा मामलों की ही जांच की थी। शेष सभी शिकायतें अभी भी फाइल में मौजूद हैं और निश्चित रूप से इनमें ढेर सारे नए तथ्य हैं। 

मंत्री ने कहा नए तथ्य आए तो जांच कर लेंगे

मध्य प्रदेश के विधि एवं विधायी मंत्री पी सी शर्मा ने मंगलवार को कहा कि प्रदेश की पूर्व भाजपा सरकार में हुए बहुचर्चित व्यापमं घोटाले में यदि कोई नये तथ्य सामने आते हैं तो हम इस घोटाले की नये सिरे से दोबारा जांच कराएंगे। शर्मा ने यहां संवाददाताओं को बताया, ‘‘यदि व्यापमं घोटाले में हमारे पास कोई नये तथ्य सामने आते हैं तो हम इसकी नये सिरे से दोबारा जांच कराएंगे।’’ 

दिग्विजय सिंह ने तो आरोपियों को सरकारी गवाह बनाने का सुझाव दिया है

उन्होंने कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह द्वारा 21 जुलाई को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ को व्यापमं घोटाले के बारे में लिखे पत्र के बारे में पूछे गये एक सवाल के जवाब में यह कहा। इस पत्र में दिग्विजय सिंह ने कमलनाथ को सुझाव दिया है कि जिस प्रकार हरियाणा में शिक्षकों की भर्ती घोटाले का पूरा सच सामने लाने और पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिये अभ्यर्थियों को सरकारी गवाह बनाया गया था, उसी तरह मध्य प्रदेश के बहुचर्चित व्यापमं घोटाले के मुख्य आरोपियों को पकड़ने के लिये जो छात्र इम्पेरिकल रुल के तहत आते हैं तथा जिनके खिलाफ सबूत उपलब्ध हैं, उन्हें इस मामले में सरकारी गवाह बनाया जाना चाहिये।