Loading...

THE SCINDIA SCHOOL में गरीब छात्रों को पढ़ाया जाता है: मंत्री प्रद्यम्न सिंह ने कहा

भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव के कारण कमलनाथ सरकार द्वारा THE SCINDIA SCHOOL के लिए फ्री में आवंटित की गई करीब 400 करोड़ की जमीन के मामले में सिंधिया की कृपा से मंत्री बने प्रद्युम्न सिंह तोमर का बयान सामने आया है। न्यूज ऐजेंसी ANI की ओर से जारी अपडेट में Madhya Pradesh Minister PS Tomar on BJP allegation that land given to Scindia school for free: Scindia school was there even before I was born. They are trying to create misunderstanding. Land allotted is not new. It was just renewal. Even poor children study in that school.

मामला क्या है

भाजपा ने विधानसभा में यह मुद्दा उठाया। आरोप है कि कमलनाथ सरकार बनते ही द सिंधिया स्कूल को 400 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन फ्री में दे दी गई जबकि यह स्कूल निर्धन छात्रों को फ्री में शिक्षा नहीं देता। इस स्कूल की फीस सबसे ज्यादा है और इसमें विदेशी छात्र तक पढ़ने आते हैं। 

स्कूल में गरीब छात्र पढ़ते हैं

मंत्री पीएस तोमर ने कहा कि भाजपा ने जो आरोप लगाया है कि सिंधिया स्कूल को फ्री में जमीन दी गई, गलत है। सिंधिया स्कूल ग्वालियर में तब से स्थापित है जब मेरा जन्म भी नहीं हुआ था। भाजपा वाले सिर्फ हंगामा खड़ा कर रहे हैं। स्कूल के लिए नई जमीन आवंटित नहीं हुई है बल्कि पुरानी आवंटित जमीन को रिन्यू किया गया है। मंत्री ने कहा कि यह सब इसलिए क्योंकि सिंधिया स्कूल में गरीब छात्र पढ़ते हैं। 

कितनी फीस है सिंधिया स्कूल की

सिंधिया स्कूल की फीस भारतीय और विदेश छात्रों के अलग अलग है। सिंधिया स्कूल में एडमिशन के लिए उपलब्ध प्रोस्पेक्टस एवं रजिस्ट्रेशन की फी 21,500 है। स्कूल की एडमिशन फीस 150,000 रुपए और Caution Money 3,00,000 रुपए जमा कराई जाती है। Boarding, Lodging & Tution Fee Rs. 7,50,000 रुपए है। इस तरह नए छात्र के लिए पहला साल 12 लाख रुपए और उसके बाद शेष सभी शैक्षणिक सत्र 7,50,000 रुपए फीस ली जाती है। देखिए कितना सस्ता है।