Loading...

10 साल से सेवाएं दे रहे थे, अचानक बेरोजगार क्यों कर दिया: अतिथि शिक्षक (खेल) संघ | KHULA KHAT

सरकार के बड़े-बड़े वादे व घोषणाओं की बदहाली का नमूना मप्र में देखा जा सकता है। इधर मंत्री मिनिस्टर और बड़े-बड़े इनके अधिकारी मप्र में खेल प्रोत्साहन और खेल महत्व की बड़ी-बड़ी ढ़ीग हाकते है। और वाह-वाही लूटते है। लेकिन हकीकत कुछ और ही है। 

बतादें म.प्र. सरकार प्रदेश के नौनिहालों के स्वास्थ्य वा शारीरिक शिक्षा से मजाक करने पर तुली है। तब तो सरकार म.प्र. के स्कूलों में अतिथि व्यायाम शिक्षक रखने की प्रक्रिया बाद में टालने का ओदश निकाल दिया, जिससे खेल प्रशिक्षित युवाओं के सामने अपनी रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया। जबकि स्कूलो में 10 साल से लगातार सेवाएं दे रहे हैं। प्रदेश में स्कूल चले अभियान की शुरूआत तो हो गयी लेकिन स्कूल की पढ़ाई शारीरिक शिक्षा के बगेर अधूरी है। 

उधर प्रशासन ने प्रशिक्षित अतिथि व्यायाम शिक्षकों की सत्र 2019-20 के लिये भर्ती प्रक्रिया शुरू की पंजीयन कराकर स्कोर कार्ड़ जनरेट कर दिया लेकिन एन वक्त पर शासन ने व्यायाम शिक्षकों के पद पर आवेदन आमंत्रित ना करने का आदेश पोर्टल पर ड़ाल दिया जिससे प्रशिक्षित खेल अभ्यर्थी आज सब बेरोजगार हो गये। अतः मुख्यमंत्री महोदय जी से निवेदन है कि जल्द से जल्द विभाग को आदेशित कर खेल शिक्षिको के पद हर हाई स्कूल, हायर सेकेण्ड़री में दिये जाये।
अतिथि खेल प्रदेश अध्यक्ष संदीप महाजन 
उपाध्यक्ष लक्ष्मीकांत दुबे मण्ड़ला
9098970625
9179647138