Loading...

SHIKSHAK BHARTI : नए फार्मूले से हजारों शिक्षकों की भर्तीयां हो सकती है निरस्त | MP NEWS

शिक्षक भर्ती परीक्षा के लिए इमेज परिणामभोपाल। देश सरकार के उम्र के नए फार्मूले से 41 हजार शिक्षकों की भर्ती निरस्त हो सकती है। इस परीक्षा में प्रथम दो चरण में 30 हजार 800 पदों के लिए 7.20 लाख आवेदक परीक्षा दे चुके हैं। अब प्रदेश में सामान्य वर्ग की आयु सीमा 40 वर्ष से घटाकर 35 वर्ष, ओबीसी की 43 से घटाकर 40 और एससी एवं एसटी की 45 वर्ष से घटाकर 40 वर्ष कर दी गई है। पूर्व में हो चुकी परीक्षा में अधिकतम 40 से अधिक तथा 45 वर्ष से कम आयु के लाखों आवेदक बैठ चुके हैं। यदि इन्हें बाहर किया गया, तो पूरी प्रक्रिया विवादों में उलझ जाएगी।

अब सरकार के नए निर्णय के अनुसार एमपीपीएससी छोड़कर सभी विभागों में आवेदकों की अधिकतम आयु 32 साल कर दी है। इसमें आरक्षित वर्ग को पांच साल की छूट दी गई है। ऐसे में उच्चतर माध्यमिक, माध्यमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा में शामिल हुए उम्मीदवार परेशानी में पड़ गए हैं। परीक्षा में शामिल 60 प्रतिशत उम्मीदवारों की आयु 32 साल से ज्यादा है। इस परीक्षा में सामान्य के अलावा आरक्षित वर्ग के 40 से 45 साल तक के उम्मीदवारों ने परीक्षा दी है। वहीं प्राथमिक पात्रता परीक्षा की तैयारी कर रहे उम्मीदवार भी उलझन में हैं कि विज्ञापन में अधिकतम आयु सीमा क्या रहेगी?

सात साल बाद हुई है परीक्षा

वर्ष 2011-12 में संविदा शिक्षक वर्ग 1, 2 और 3 की परीक्षा आयोजित की गई थी। उसके बाद वर्ष 2018 में इसका नाम बदलकर शिक्षक भर्ती परीक्षा कर दिया गया था। सात साल इंतजार के बाद ऐसे आवेदक भी परीक्षा में शामिल हुए, जिनकी उम्र 40 वर्ष पार कर चुकी है। स्थाई पद होने तथा अधिक वेतन के कारण इस परीक्षा में सात लाख से अिधक आवेदक शामिल हुए थे।

इन दोनों परीक्षाओं में आयु सीमा सामान्य वर्ग के लिए 21 से 40 वर्ष निर्धारित की गई है। वहीं आरक्षित वर्ग के लिए तीन, पांच व दस साल की छूट दी गई है। इसके अलावा प्राथमिक शिक्षक के 10 हजार पदों पर भर्ती के लिए होने वाली परीक्षा में 10 लाख से अधिक आवेदकों के शामिल होने की संभावना है। इसके लिए भी आयु सीमा पूर्व में हुई दोनों परीक्षाओं के समान ही निर्धारित की गई है।


नियमों के संबंध में शीघ्र निर्णय लेंगे

शिक्षकों की भर्ती के संबंध में अफसरों से जानकारी लेकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। यदि शिक्षक भर्ती परीक्षा पहले कराई जा चुकी है, तो उस पर नए नियम लागू होंगे या नहीं यह निर्णय जल्द ही किया जाएगा। डॉ. प्रभुराम चौधरी, स्कूल शिक्षा मंत्री मध्यप्रदेश शासन

लाखों आवेदक होंगे बाहर

मप्र सरकार के नए नियमों में अगर शिक्षक भर्ती परीक्षा भी आती है तो प्रदेश के लाखों आवेदक भर्ती प्रक्रिया से बाहर हो जाएंगे। परीक्षा के बाद भर्ती के लिए दोबारा फार्म भरे जाना हैं। ऐसे में 35 साल से अधिक आयु के आवेदक परेशानी में आ गए हैं। पवन रजक, शिकायतकर्ता

नए नियम से होगी नई भर्ती

प्रदेश के किसी भी विभाग में नई भर्ती नए नियमों से ही की जाएगी। लेकिन जिन भर्तियों की परीक्षा हो चुकी हैं, संभवत: उनमें ये नियम लागू नहीं होगा। पीसी मीणा, अपर मुख्य सचिव, सामान्य प्रशासन विभाग

भर्ती नियम के हिसाब से होगी

प्राथमिक शिक्षक भर्ती परीक्षा अभी होना है। हमारे पास स्कूल शिक्षा विभाग से इसके संबंध में भर्ती नियम नहीं आए हैं। भर्ती नियमों में जो भी आयु तय की जाएगी, उसी आधार पर परीक्षा कराई जाएगी। उच्चतर माध्यमिक और माध्यमिक शिक्षक भर्ती का परीक्षा पुराने नियमों से हो चुकी है। अब शासन का जो भी फैसला होगा, उस पर अमल किया जाएगा। एकेएस भदौरिया, परीक्षा नियंत्रक पीईबी