Loading...

BHOPAL NEWS : हरा भोपाल-शीतल भोपाल अभियान में नीम, आंवला व आम के पौधों की ज्यादा डिमांड

भोपाल। शहर को हरा-भरा बनाने के लिए हरा भोपाल-शीतल भोपाल अभियान चलाया जा रहा है। शहर में एक जुलाई से बड़े पैमाने पर पौधे रोपे जाएंगे। इस बीच शहर में पिछले एक सप्ताह में करीब 2 लाख पौधे खरीदी के लिए ऑर्डर दिए हैं। मानसून की दस्तक के बाद पौधे पहुंचाने का काम शुरू कर दिया जाएगा। पौधे मिलने के बाद तुरंत लगवा दिए जाएंगे। 

भोपाल में करीब 11 लाख पौधे लगाने का लक्ष्य रखा गया है। शहर में नीम, जामुन, आम, आंवला, पीपल, मुनगा के पौधे की डिमांड सबसे ज्यादा है। बड़े पैमाने पर पौधे रोपने के लिए शहर के विभिन्न इलाकों में गड्ढे खोदने काम शुरू कर दिया गया है। अब तक करीब एक लाख 83 हजार 200 पौधे रोपने के लिए गड्ढे खोदे गए हैं। इसकी जिम्मेदारी जिला प्रशासन, नगर निगम, बीडीए, सीपीए, वन विभाग, एनएचआई, रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के अफसरों को दी गई है। पौधे खरीदी के लिए रहवासियों को एक फाॅर्म भरना होगा। इसके बाद दिए गए पते पर होम डिलीवरी द्वारा पौधे पहुंचाए जाएंगे। इसके लिए 10 रुपए प्रति पौधे चुकाना होगा। अभियान के तहत अशोक, आंवला, कटहल, कदम्ब, करंज, जायफल, जामुन, नीबू, नीम, पीपल, बरगद, बेलपत्र, महुआ, मीठा नीम, सागौन, सीताफल, मुनगा के पौधे मिलेंगे।

यहां से मिलेंगे फॅार्म 

पौधे खरीदी के लिए भरना होगा फाॅर्म, बारिश शुरू होते ही पौधों को लगाने का शुरू होगा काम। थ्रीईएमई सेंटर आर्मी से 10 हजार पौधों खरीदी के ऑर्डर मिले हैं। इसी तरह रहवासियों के द्वारा 60 हजार पौधों की खरीदी के ऑर्डर मिल गए हैं। शैक्षणिक संस्थाओं द्वारा 25 हजार, पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद अस्पताल एवं कॉलेज प्रबंधन ने 2 हजार और ऑनलाइन 2100 लोगों ने पौधों की खरीदी की डिमांड संभागायुक्त दफ्तर के पास भेजी है। 

पार्क गोद लेने आगे आए 10 से ज्यादा रहवासी संघ 

शहर में उजाड़ पड़े पार्क को संवारा जाएगा। 10 से ज्यादा रहवासी संघ ने संभागायुक्त से मिलकर पार्क डेवलप करने के लिए आवेदन दिया है। 

फॉर्म में भरे गए पते पर पहुंचाए जाएंगे पौधे... 

संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने बताया कि मानसून की शहर में दस्तक देने के बाद पौधे पहुंचाने काम शुरू कर दिया जाएगा। जिन लोगों ने पौधे की खरीदी का ऑर्डर दिया है, उनके पते पर होम डिलीवरी के माध्यम से पौधे पहुंचाए जाएंगे। स्वच्छता मिशन में लगे वॉलंटियर्स के मार्फत घर-घर आवेदन पत्र पहुंचाए जा रहे हैं।