Loading...

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 के प्रारूप पर स्कूली शिक्षा से जुड़े शिक्षाविदों का विचार मंथन | BHOPAL NEWS

भोपाल। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 के सुझाब हेतु “नई शिक्षा नीति“ के प्रारूप पर विचार मंथन के लिए विद्या भारती मध्यभारत प्रांत द्वारा स्कूली शिक्षा से जुड़े शिक्षाविद्दो की बैठक का आयोजन प्रज्ञादीप सरस्वती विद्या प्रतिष्ठान  हर्षवर्धन नगर भोपाल में किया गया। 

उल्लेखनीय है की विगत 4 वर्षो से नई शिक्षा नीति के बारे में विचार मंथन चल रहा है नई सरकार के गठन के साथ ही यह फिर से चर्चा में आ गया है। भारत सरकार के मानव संशाधन मंत्रालय द्वारा देश भर से विभिन्न स्तरों पर सुझाव आमंत्रित किये जा रहे है। शिक्षा नीति में सुझाव के निमित्त शिक्षाविद्दो की बैठक आज भोपाल में आयोजित की गयी जिसमे आठ समूहों में चर्चा की गयी आठ विषयो पर चर्चा की गयी। 

जिनमे प्री स्कूल शिक्षा, बुनियादी साक्षरता एवं अक्षर ज्ञान (कक्षा 1,2,3),ड्राप आउट बच्चो को शिक्षा से पुनः जोड़ना ,स्कूलो में शिक्षाक्रम और शिक्षणशास्त्र ,शिक्षक ,समतामूलक और समावेशी शिक्षा स्कूल कॉम्पलेक्स के माध्यम से प्रभावी गवर्नेस और कुशल संसाधन उपलब्धता तथा स्कूली शिक्षा का विनियमन आदि विषयो पर समूह चर्चा की गयी।

अंत में सभी समूहों द्वारा अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया 
समूह चर्चा में आये सुझावो को विद्या भारती  अखिल भारतीय शिक्षा संसथान द्वारा भारत सरकार को प्रस्तुत किये जायेंगे। कार्यक्रम की भूमिका डॉ. भागीरथ कुमरावत, पूर्व उपाध्यक्ष, माध्यमिक षिक्षा मण्डल, भोपाल द्वारा प्रस्तुत की गई। इस अवसर पर विद्या भारती के क्षेत्र संगठन मंत्री श्री भाल चंद्र रावले ,सचिव मोहन लाल गुप्ता, प्रान्त संगठन मंत्र हितानन्द शर्मा ,डॉ संजय पटवा, अश्विनी चोवे , क्षत्रवीर सिंह राठोड ,आशीष भारती ,डॉ राजश्री वैद्य, श्रीमती पिंकेशलता रघुवंशी ,डॉ राम कुमार भावसार आदि शिक्षाविद्व उपस्थित थे।