निकम्मी कमलनाथ सरकार अक्षय तृतीया पर बेटियों की शादी भी नहीं करवा पाई: शिवराज सिंह | MP NEWS

Advertisement

निकम्मी कमलनाथ सरकार अक्षय तृतीया पर बेटियों की शादी भी नहीं करवा पाई: शिवराज सिंह | MP NEWS

ग्वालियर, शिवपुरी, विदिशा, गुना। हमारे देश का सर अब गर्व से उंचा है, क्योंकि देश की बागडोर कुशल हाथों में हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पांच वर्षों में देश को एक नई दिशा दी है। देश का विश्व में मान-सम्मान बढ़ाया है। उन्होंने आतंकवाद को सबक सिखाया है और अब आतंकवाद का पूरी तरह सफाया करना है। इसके लिए श्री नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री बनाना जरूरी है। ये बातें पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार को कही। उन्होंने बुधवार को चीनोर, पोहरी में पार्टी प्रत्याशी श्री विवेक शेजवलकर, कोलारस और मुंगावली में पार्टी प्रत्याशी श्री केपी यादव, कुरवाई, सिरोंज में पार्टी प्रत्याशी श्री राजबहादुर सिंह और कालीपीठ, शमशाबाद में पार्टी प्रत्याशी श्री रमाकांत भार्गव के समर्थन में सभाओं को संबोधित किया।

कांग्रेस ने बंद की हमारी योजनाएं

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार के समय हमने कई महत्वाकांक्षी योजनाओं को शुरू किया। इन योजनाओं से प्रदेश के करोड़ों लोगों को लाभ मिला है, लेकिन अब कांग्रेस की सरकार इन योजनाओं को बंद करके खुद की जेबें भर रही हैं। कांग्रेस सरकार का यह हाल है कि इस बार अक्षय तृतीया पर मुख्यमंत्री कन्यादान एवं निकाह योजना के अंतर्गत बेटियों की शादियां ही नहीं हो सकीं। उन्होंने कहा कि बड़ी उम्मीदें रहती हैं कि ऐसे लोगों को जो अपनी बेटियों की शादी करना चाहते हैं, लेकिन ये निकम्मी सरकार इस बार ऐसी बेटियों की शादी भी नहीं करवा पाई। हमने गरीबों के लिए संबल योजना शुरू की तो इन्होंने उसे भी बंद कर दिया। बुजुर्गों को तीर्थदर्शन पर भेजते थे तो इन्होंने उस योजना को भी बंद करवा दिया। उन्होंने कहा कि यह सरकार तो अंतिम संस्कार के लिए दी जाने वाली पांच हजार रूपए की राशि भी नहीं दे पा रही है। इन्होंने यह राशि देना भी बंद करवा दिया है। इसलिए विधानसभा चुनाव में तो गलती कर दी, लेकिन अब लोकसभा चुनाव में गलती नहीं करनी है। देश की बागडोर कुशल एवं सुरक्षित हाथों में सौंपना है।

किसान धूप में तप रहे हैं और मुख्यमंत्री एसी में बैठे

श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि एक तरफ प्रदेश का किसान परेशान है। वह कड़ी धूप में गेहूं के ढेर पर बैठकर गेहूं बेचने के लिए अपनी बारी का इंतजार कर रहा है, लेकिन उसका गेहूं नहीं तुल रहा है। इधर मुख्यमंत्री कमलनाथ इन परेशान किसानों की सुध लेने के बजाए एसी में बैठे हुए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार विश्वासघाती सरकार है। इन्होंने प्रदेश के किसानों को छलने का काम किया है। इनके नेता राहुल गांधी ने किसानों से कर्जमाफी का वादा करके वोट तो ले लिया, लेकिन अब तक किसानों का कर्जामाफ नहीं हो सका है। जबकि इन्होंने वादा किया था कि सरकार बनने के 10 दिनों में वे सभी किसानों का कर्जामाफ करेंगे और यदि नहीं किया तो मुख्यमंत्री बदल देंगे। अब तक तो प्रदेश के सभी कांग्रेसी नेताओं को मुख्यमंत्री बन जाना चाहिए था, क्योंकि 120 दिनों से ज्यादा हो गए हैं। उन्होंने मोदी जी को फिर प्रधानमंत्री बनाने के लिए कमल का बटन दबाने और भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार को जिताने की अपील की।