Advertisement

शेर्ली जैन ने बताया: कैसे खेल-खेल में जेईई मेन्स परीक्षा पास कर ली | INSPIRATIONAL STORY



भोपाल। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा देशभर के आईआईटी और एनआईटी में बी-आर्क कोर्स में एडमिशन के लिए आयोजित जेईई मेन्स परीक्षा के पेपर-2 के परीक्षा परिणाम मंगलवार देर रात घोषित हुए। इस परीक्षा में देशभर से 1 लाख 69 हजार 725 छात्रों ने हिस्सा लिया। 7 अप्रैल को दो शिफ्ट में आयोजित हुई इस परीक्षा में भोपाल रीजन से करीब 800 छात्र शामिल हुए। इस परीक्षा में शिवपुरी की शेर्ली जैन पुत्री ममता-राकेश जैन आमोल ने ऑल इंडिया 4028 रैंक हासिल की। 

खुद को परखने के लिए दी थी परीक्षा

खास बात यह है कि छात्रा शेर्ली का मुख्य लक्ष्य तो इंजीनियरिंग ही है। यह परीक्षा उन्होंने सिर्फ खुद को परखने के लिए दी थी। शेर्ली जैन ने बताया, दरअसल वह अभी तक निर्णय नहीं ले पाईं कि वह क्या करें। इंजीनियरिंग में इंट्रेस्ट है, लेकिन इंजीनयिरिंग ड्रॉइंग में भी मेरा रुझान है, इसलिए मैथ्स के भरोसे इस परीक्षा में भी शामिल हुईं। मुझे यह नहीं पता था कि यहां जगह बना लूंगी। मैंने सालभर तीनों ही सब्जेक्ट्स में काफी मेहनत की। ड्रॉइंग स्ट्रॉन्ग थी, तो रीजनिंग और मैथ्स पर पूरे साल मेहनत की। 

सफलता का सूत्र: थोड़ा ही पढ़ें, लेकिन रोजाना जरूर पढ़ें

अगर कोई सुझाव दूं, तो वह होगा कि पढ़ाई में कंसिस्टेंट रहो। मैंने शुरुआत में पढ़ाई की तारतम्यता को काफी तोड़ा। तीन दिन पढ़ाई कर ली, फिर एक दिन नहीं पढ़ा। ऐसे में फ्लो बिगड़ जाता था, जो मुझे कुछ महीनों बाद समझ में आया। भले ही, थोड़ा ही पढ़ें, लेकिन रोजाना जरूर पढ़ें।