Loading...

INDORE BAZAR में 800 करोड़ की हुंडी डूब गईं, व्यापारियों की साख पर सवाल

इंदौर। किसी भी बाजार में हुंडी-चिट्ठी (HUNDI : a financial instrument that developed in Medieval India for use in trade and credit transactions) एक ऐसा लोन होता है जो बिना किसी गारंटी और गिरवी के व्यापारी को उसकी साख के आधार पर मिलता है। जिस व्यापारी को जितनी ज्यादा हुंडी-चिट्ठी मिलती है वो उतना ही बड़ा व्यापारी माना जाता है। व्यापारियों के बीच हुंडी-चिट्ठी का महत्व इतना अधिक होता है कि एक व्यापारी बैंक का डिफाल्टर होना पसंद करता है परंतु हुंडी-चिट्ठी में लिया गया पैसा निर्धारित तारीख पर ही चुकाता है परंतु इंदौर में भारत की सदियों पुरानी परंपरा टूट रही है। करीब 5000 निवेशकों के 800 करोड़ रूपए डूबने की कगार पर हैं।

हाल ही में कुछ मामलों में व्यापारियों के खुदकुशी की धमकी देने और बाउंसरों से धमकाने की घटनाएं होने के बाद हुंडी ब्रोकरों ने पुलिस के आला अफसरों से मदद मांगी है। उनका कहना है कि पैसा वापस नहीं आया तो निवेशक बर्बाद हो जाएंगे। अब इन पैसों की वसूली के लिए हुंडी ब्रोकर एसोसिएशन भी आगे आया है। इसके तहत वह डिफॉल्टर व्यापारियों से बात कर उन्हें पैसा लौटाने के लिए राजी करने की कोशिश कर रहा है। व्यापारी फिर भी नहीं माने तो सभी मामलों में कानूनी कार्रवाई शुरू की जाएगी। अगर ऐसा हुआ तो अगले कुछ दिनों में कई बड़े व्यापारी इसकी चपेट में आ सकते हैं। एसोसिएशन ने इस आशंका से पुलिस, क्रेडाई और अहिल्या चेंबर ऑफ कॉमर्स को भी अवगत करा दिया है।

व्यापारी की साख पर मिलती है हुंडी, कोई गारंटी नहीं लगती

व्यापारी और उद्योगपति कारोबार में लगने वाली पूंजी बैंक, एनबीएफसी (नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी) और बाजार से आपसी संबंधों के जरिए जुटाते हैं। बाजार से ली जाने वाली राशि अकसर हुंडी-चिट्ठी पर 6 से 8 माह की छोटी अवधि के लिए दी जाती है। देनदार से कोई गारंटी नहीं मांगी जाती और न ही कुछ गिरवी रखा जाता है, सिर्फ व्यापारी की साख पर पैसा देते हैं। इस तरह का 80 प्रतिशत काम हुंडी ब्रोकर करते हैं। उन्हें इसके बदले 1.5 प्रतिशत कमीशन लेनदार से मिलता है।

यह लेनदेन मनी लॉन्ड्रिंग से अलग इसलिए होता है, क्योंकि देनदार से पैसा लेकर सीधे लेनदार को दिया जाता है। इंदौर में हुंडी ब्रोकरों का एसोसिएशन अहिल्या फाइनेंशियल सर्विस प्रोवाइडर एसोसिएशन के नाम से रजिस्टर्ड है। इनका टीडीएस भी कटता है। इसके 75 सदस्य 5000 से ज्यादा लोगों का पैसा मार्केट में निवेश करवाते हैं। एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल सैनी ने बताया पिछले दो वर्षों में नोटबंदी के बाद इन 5000 निवेशकों के 800 करोड़ रुपए बाजार में फंस गए हैं।

उल्टा ब्रोकर्स को फंसा रहे हैं व्यापारी

एसोसिएशन के सचिव राकेश अग्रवाल के मुताबिक, ब्रोकरों ने डिफॉल्टर व्यापारियों से वसूली की कोशिश की तो उन्हें अलग-अलग तरीकों से धमकाया गया। कुछ व्यापारियों ने बाउंसर रख लिए तो कोई प्रताड़ित होने का बहाना बनाकर आत्महत्या की धमकियां दे रहा है। एक प्रतिष्ठित व्यवसायी ने तो पहले एसोसिएशन के पदाधिकारियों को कई दिनों तक टाला, फिर जब ब्रोकर सुबह उसके घर पहुंचे तो उसने मिलने के लिए ऑफिस बुलवा लिया। इस बीच व्यापारी ने एसोसिएशन के पदाधिकारियों के खिलाफ ही महिला से छेड़छाड़ और अवैध वसूली की शिकायत पलासिया थाने पर कर दी। ऐसे ही भंवरकुआं सहित अन्य थानों में शिकायतें की गईं। हालांकि एसोसिएशन के आगे आने से कार्रवाई तो नहीं हुई, लेकिन ब्रोकर दहशत में आ गए। इस पर एसोसिएशन ने पुलिस अफसरों को सभी डिफॉल्टरों की जानकारी उपलब्ध करवाना शुरू कर दिया है।

व्यापारियां ने हुंडी की रकम एशोआराम में उड़ा दी

हुंडी की रकम व्यापार करने के लिए दी जाती है। सैनी ने बताया पैसा लेने वाले व्यापारियों ने बाजार से पैसा उधार लेकर लग्जरी शादियां की और गाड़ियां खरीदने सहित कई शौक पूरे किए, लेकिन बाजार में मंदी का बहाना बनाकर पैसा लौटाने से इनकार कर दिया। कुछ व्यापारी धीरे-धीरे पैसा लौटा रहे हैं, लेकिन कई हड़प कर गए हैं। इस पर एसोसिएशन ने पिछले दिनों बैठक कर निर्णय लिया कि ऐसे डिफॉल्टर व्यापारियों की सूची बनाएंगे। इनमें ऑटोमोबाइल शोरूम के मालिक और बिल्डर सहित कई प्रतिष्ठित बिजनेस हाउस के नाम हैं।

हुंडी की वसूली में चेक दिए थे, वो भी बाउंस हो गए

अब इनसे वसूली करने के लिए एसोसिएशन ही पहल करेगा। इसके बावजूद पैसा नहीं चुकाने पर ऐसे व्यापारियों के नाम उजागर कर कानूनी कार्रवाई की जाएगी। डिफॉल्टर व्यापारियों ने ब्रोकरों को पोस्ट डेटेड चेक दिए हैं, जो बाउंस हो रहे हैं। कई व्यापारियों पर चेक बाउंस के 15 से 20 मामले कोर्ट में चल रहे हैं। एसोसिएशन डिफॉल्टर व्यापारियों के नाम उजागर करने के साथ सभी को सूचित करेगी कि उनसे कोई भी व्यापारी वर्ग आर्थिक लेनदेन न करें।