12वीं में 60% से ज्यादा लाने वाले सभी बोर्ड के छात्रों को केंद्रीय छात्रवृत्ति | EDUCATION NEWS

Advertisement

12वीं में 60% से ज्यादा लाने वाले सभी बोर्ड के छात्रों को केंद्रीय छात्रवृत्ति | EDUCATION NEWS

भोपाल। माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) समेत अन्य सभी बोर्ड से 12वीं पास करने वाले मेधावी छात्रों के लिए खुशखबरी है। अब 12वीं कक्षा में 80 के बजाय 60 प्रतिशत पाने वाला परीक्षार्थी भी केंद्रीय छात्रवृत्ति योजना के लिए पात्र होगा। इसके लिए केंद्र सरकार ने गाइड लाइन जारी कर दी है।

भारत सरकार की ओर से 12वीं पास विद्यार्थियों की कॉलेज व विश्वविद्यालय की पढ़ाई के लिए केंद्रीय छात्रवृत्ति योजना वर्ष 2008 में शुरू की गई थी। अभी तक इस परीक्षा के लिए परीक्षार्थी को 80 प्रतिशत से 12वीं बोर्ड परीक्षा पास होना अनिवार्य था, लेकिन इस नियम को बदल दिया गया है।

बता दें कि छत्तीसगढ़ में अनुसूचित जाति एवं जनजाति एवं विशेष पिछड़ी जनजाति के विद्यार्थी पढ़ाई करते हैं। ऐसे में मापदंडों में सुधार होने से अब अधिक विद्यार्थियों को फायदा होगा। अभी तक प्रदेश में निर्धारित कोटा भी पूरा नहीं हो पा रहा था। दरअसल 80 प्रतिशत से ऊपर के पात्र मेधावी नहीं मिल पा रहे थे।

1000 से 2000 छात्रवृत्ति हर माह
पात्र विद्यार्थी को छात्रवृत्ति बीए, बीकॉम, बीएससी जैसे स्नातक स्तर पर प्रथम तीन वर्ष के लिए एक हजार रुपए प्रतिमाह व स्नातकोत्तर स्तर पर 2000 रुपये प्रतिमाह दिया जाता है। व्यावसायिक पाठ्यक्रम के लिए प्रथम तीन वर्ष के लिए 1000 रुपये प्रतिमाह और चौथे-पांचवें वर्ष के लिए 2000 रुपये प्रतिमाह देने का प्रावधान है। छात्रवृत्ति प्रति शैक्षिक वर्ष के 10 माह के लिए ही होगी।

कॉलेजों में 50 प्रतिशत अंक पाने पर रिन्युअल
अभी तक 12वीं पास मेधावियों का प्रथम वर्ष में 60 फीसदी से अधिक अंक प्राप्त करने पर ही द्वितीय वर्ष में छात्रवृत्ति के लिए रिन्युअल होता था, अब इस नियम में भी बदलाव करके 60 की जगह 50 प्रतिशत कर दिया गया है। यह नियम आगे की कक्षाओं में भी लागू होगा।

8 लाख तक आय वाले पात्र
केंद्र सरकार ने केंद्रीय छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने की पात्रता बढ़ा दी है। अक्टूबर-नवम्बर तक इसके लिए आवेदन लिये जाएंगे। केंद्रीय छात्रवृत्ति के लिए अब छह लाख के बजाय आठ लाख रुपये तक वार्षिक आय वालों के बच्चे पात्र होंगे।