Advertisement

नौकर के नाम फर्म खोली, करोड़ों का लेनदेन कर लिया: शिकायत | NEEMUCH MP NEWS



नीमच। (कमलेश सारड़ा)। बड़े-बड़े व्यापारी टैक्स चोरी के लिए कितने जतन करते है, ये किसी से छुपा नहीं है। नीमच में टैक्स चोरी के लिए नौकर के नाम एक फर्म खोलकर अन्य व्यापार उसकी आड़ में करने का बड़ा मामला सेल टैक्स की कार्रवाई के बाद उजागर हुआ है। सर्वे की कार्रवाई के दौरान अभी 28 से 30 करोड़ की चोरी सामने आई है। जिसकी जांच के बाद अन्य और प्रकरण खुलने के साथ यह मामला अरबों में पहुंच सकता है। 

आरोप है कि यह धोखाधड़ी नीमच की बड़ी कंपनी मेसर्स MS SOLVEX PRIVATE LIMITED के प्रोपरायटर एवं डायरेक्टर्स द्वारा की गई है। नौकर को सेल टेक्स की टीम पूछताछ के लिए घर पहुंचने पर पता चला, उसने सारा सच सेल्स टैक्स अधिकारियों को बता दिया। जिसके बाद सालवेक्स के डायरेक्टर्स मामले को दबाने के लिए नौकर को लोभ लालच और धमकाने का प्रयास कर रहे हैं। जिसकी शिकायत उसने एसपी राकेश कुमार सगर को की है।

शिकायतकर्ता प्रकाश पिता बखतराय वरधानी निवासी विकास नगर ने बताया कि वह वर्ष 2013 से फर्म मेसर्स एमएम सालवेक्स में नौकरी करता है। वह मंडी में माल तुलवाने और मंडी से सोयाबीन खरीददारी का काम करता था। सालवेक्स के प्रोपरायटर संजय चौपड़ा और मनीष चौपड़ा तथा डायरेक्टर्स नवीन अग्रवाल और अंतिम अग्रवाल ने खल व कपास के लिए नई फर्म खोलने हेतु प्रार्थी को विश्वास में लिया व उसके नाम से मेसर्स प्रकाश इंटरप्राईजेस के नाम से नई फर्म खोली और यह आश्वस्त किया कि इसमें सिर्फ नाम आपका है, बाकी सारा कार्य ट्रांजेक्शन, खानापूर्ति, प्रपत्रों का तैयार करना, खाता खुलवाना आदि वहीं करेगा। चूंकि प्रार्थी विपक्षी के यहां नौकरी कर रहा था। इसीलिए उनके कहे अनुसार जहां-जहां उन्होंने बोले हस्ताक्षर किए। जिस पर विपक्षी आरोपियों ने टीन नंबर व चालू खाता संख्या एक्सीस बैंक व आईडीबीआई बैंक का खाता भी खुलवाया व इंटरनेशनल ट्रांजेक्शन हेतु आईईसी कोड भी बिना प्रार्थी की जानकारी के प्राप्त किया।

2014 में खोली फर्म
शिकायतकर्ता वरधानी ने बताया कि सालवेक्स के डायरेक्टर नवीन अग्रवाल व उनके साथियों ने प्रार्थी को दबाव में लेकर व मोहरा बनाकर मेसर्स प्रकाश इंटरप्राईजेस फर्म वर्ष 2014 में उसके नाम से खोल ली व चेकों का व आईसी कोड का दुरूपयोग कर बिना प्रार्थी की जानकारी के छल कपट व बेईमानी के आशय से करोड़ों रूपयों की ट्रांजेक्शन उसके नाम से सोया डीओसी विक्रय कर किए। जबकि प्रार्थी इस प्रकार के व्यापार करने के तरीके पूर्णत: अनभिज्ञ है, न ही उसके पास करोड़ो रुपयों ही है, जिनसे वह इतना बड़ा व्यापार कर सकता है।

सेल्स टैक्स की कार्रवाई पर खुली धोखाधड़ी 
शिकायतकर्ता ने बताया कि दिनांक 7 मार्च 2017 को आयुक्त वाणिज्यक भोपाल जांच अधिकारी प्रार्थी की फर्म सेल टैक्स आदि जांच हेतु आए तब पहली बार प्रार्थी को यह ज्ञात हुआ कि आरोपी मालिकों ने प्रार्थी के नाम से फर्म खुलवाकर टैक्स बचाने के लिए करोड़ों रुपयों का लेनदेन उसके नाम से कर लिया है। जिसकी करोड़ों की पेनल्टी बनती है और करोड़ों का कर चुकाना बाकी है। जिस पर प्रार्थी ने अधिकारियों को अपने दिए गए स्टेटमेंट में सारी सच्चाई से अवगत कराया, जिसकी जांच जारी है।

फर्म मालिक धमका रहे हैं
शिकायतकर्ता प्रकाश वरधानी ने बताया कि सालवेक्स के डायरेक्टर्स और प्रोपराइटर उस पर दबाव बना रहे है कि किया गया जितना ट्रांजेक्शन व घपला है। उसके लिए प्रार्थी सारी जिम्मेदारी अपने सिर ले ले नहीं तो उसके व उसके परिवार को जान से खत्म कर देंगे। यह धमकियां लगातार दी जा रही है। उसकी पत्नी वंदना वरधानी को भी धमका रहें है, पति को समझाए। इन सभी धमकी की शिकायत एसपी राकेश कुमार सगर को दी है।

इनका यह कहना 
वर्ष 2017 में प्रकाश इंटरप्राईजेस पर स्क्रूटनी कार्रवाई रतलाम टीम के नेतृत्व में हुई थी। मामले में जांच भी उनके पास है। यह बात सही है कि सालवेक्स कंपनी में नौकरी करने की बात फर्म के प्रापराइटर प्रकाश वरधानी ने की थी। अभी मामले में जांच चल रही है। 
सुरेंद्र सिंह चूंडावत, सेल्स टैक्स अधिकारी नीमच।

मामले की जांच सीएसपी को दी है, जस्टिस होगा
फर्जी हस्ताक्षर कर खाता खुलवाने और फर्म नौकर के नाम से संचालित कर करोड़ों की राजस्व कर चोरी होने की शिकायत मिली है। मामले में सेल टैक्स विभाग से भी जानकारी मांगी है, अगर शिकायतकर्ता को कोई भी धमका रहा है तो कार्रवाई होगी। 
राकेश कुमार सगर, एसपी नीमच।