Loading...

कमलनाथ ने किसानों को आचार संहिता से चार घंटे पहले ही मैसेज भेज दिए: गोपाल भार्गव | MP NEWS

उज्जैन। जिले के घट्टिया में विजय संकल्प यात्रा के दौरान आयोजित सभा को संबोधित करते हुए नेता प्रतिपक्ष श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि कर्जमाफी से बचने के लिए कांग्रेस सरकार आचार संहिता लगने का इतनी बेसब्री से इंतजार कर रही थी कि रविवार को आचार संहिता लगने से चार घण्टे पहले ही किसानों के मोबाइल पर कर्जमाफी तीन महीने के लिए टलने के मुख्यमंत्री कमलनाथ के मैसेज पहुँचने लगे। 

उन्होंने पूछा कि क्या कमलनाथ सरकार अंतर्यामी है, जिससे आचार संहिता लगने के 4 घंटे पहले ही जानकारी मिल गई थी। श्री भार्गव ने कहा कि काँग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी ने 10 दिनों में प्रदेश के सभी किसानों का 2 लाख का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी। लेकिन मुझे कोई भी किसान 2 लाख की कर्जमाफी का प्रमाण पत्र दिखा दे, तो मैं उसे 2 लाख का इनाम दूंगा। उन्होंने कहा कि आज किसान ठगा हुआ महसूस कर रहा है। 

किसान इस बात से भी गुस्से में है कि उसने झूठे वादों में आकर गरीबों के हित में काम करने वाली भाजपा सरकार को अल्पमतों से हटा दिया। श्री भार्गव ने कहा कि यह विजय संकल्प यात्रा इसलिए है कि देश की सीमाएं सुरक्षित हों, इसलिए है कि गरीबों को घर मिल सके, किसानों को उनकी उपज का बेहतर मूल्य मिल सके।