तबादलों के कारण डिप्टी कलेक्टर को उप जिला निर्वाचन अधिकारी बनाना पड़ा | BHOPAL NEWS

Advertisement

तबादलों के कारण डिप्टी कलेक्टर को उप जिला निर्वाचन अधिकारी बनाना पड़ा | BHOPAL NEWS


भोपाल। चुनाव (Election) जैसे महत्वपूर्ण कार्य को निपटाने के लिए मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) में उप जिला निर्वाचन अधिकारी बनाने के लिए एडीएम उपलब्ध ही नहीं है, अंतत: डिप्टी कलेक्टर को उप जिला निर्वाचन अधिकारी (District election officer) बनाना पड़ा। बता दें कि चुनावी तैयारियों के बीच ही सरकार ने एडीएम संतोष वर्मा (ADM Santosh Verma) तबादला कर दिया और उनकी जगह कोई दूसरा एडीएम नियुक्त नहीं किया गया। 

भोपाल शहर में एडीएम(ADM), एसडीएम (SDM) और तहसीलदारों के स्थानांतरण (Transfers) के चलते पहली बार यह स्थिति बनी है कि डिप्टी कलेक्टर को उप जिला निर्वाचन अधिकारी का प्रभार दिया गया है। तीन एडीएम के पद स्वीकृत होने के बावजूद भोपाल में अब तक किसी अपर कलेक्टर (Collector) का स्थानांतरण नहीं किया गया। जबकि लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) की तैयारियों के बीच एडीएम संतोष वर्मा का स्थानांतरण कर दिया गया। लिहाजा डिप्टी कलेक्टर मनोज वर्मा (Deputy Collector Manoj Verma) को उप जिला निर्वाचन अधिकारी बनाया गया है। वहीं हाल ही में जिले में आए जिला पंचायत सीईओ सतीश एस कुमार (CEO Satish S Kumar) अपर कलेक्टर के चार्ज में रहेंगे। 

इस तरह वे एडीएम नार्थ होने के साथ ही जिला पंचायत सीईओ (District Panchayat CEO) का चार्ज संभालेंगे। दूसरी ओर तहसीलदारों (Tehsildar) के लिए भोपाल में स्वीकृत पदों की संख्या 10 है। वर्तमान में 11 पदस्थ हैं, जबकि दो अन्य का स्थानांतरण भोपाल किया गया है। इस तरह 13 तहसीलदार शहर में पदस्थ हो गए हैं। इधर, एसडीएम के 10 पद हैं जो सभी फुल हैं। नायब तहसीलदार के 14 पद हैं, लेकिन 11 ही पदस्थ हैं।