Loading...

जिसे बूथ से कांग्रेस हारी, CM OFFICE में उस नेता का प्रवेश प्रतिबंधित कर दूंगा: कमलनाथ | MP NEWS

सागर। सीएम कमलनाथ ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जोश भरने के साथ धमकी भी दी है। उन्होंने कहा है कि लोकसभा चुनाव में जिस भी बूथ से कांग्रेस हारी, उस बूथ के नेता का सीएम ऑफिस मे प्रवेश प्रतिबंधित हो जाएगा। 

सुझाव-मशविरे के बाद कमलनाथ ने कहा कि मैंने सागर के लिए तीन बार सर्वे करा लिया है। फिर भी आप लोग अपने-अपने प्रत्याशी के नाम की गोपनीय पर्ची बनाकर भूपेंद्र गुप्ता को दे दें। अगर आपकी पर्चियों में कोई ऐसा नया नाम निकलता है जो मेरे सर्वे में शामिल नहीं था तो मैं उस नाम का भी सर्वे करा लूंगा। आखिर में सीएम ने कहा आप लोग ईमानदारी से बूथ लेवल से लेकर अपनी-अपनी विधानसभा तक कांग्रेस को जिताने की जवाबदारी ले लें। याद रखें कि जो भी कार्यकर्ता-पदाधिकारी अपना बूथ हारेंगे। उनके नाम की लिस्ट मेरे ऑफिस के बाहर चस्पा कर दी जाएगी ताकि उस व्यक्ति को कभी मेरे ऑफिस में प्रवेश नहीं मिले। 

इस मीटिंग में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी, पूर्व विधायक अरुणोदय चौबे, पूर्व मंत्री प्रभुसिंह ठाकुर, जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हीरासिंह राजपूत, जिला ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष अखिलेश केशरवानी, कार्यकारी अध्यक्ष मुन्ना चौबे, चक्रेश सिंघई, कमलेश बघेल, महेश जाटव, जितेंद्रपालसिंह चावला, सुरेंद्र सुहाने, भूपेंद्र मोहासा आदि मौजूद थे। 

मुझे मालूम है कई कांग्रेसी भाजपा का काम करते हैं

मुख्यमंत्री सागर से भोपाल पहुंचे कांग्रेसियों से सागर लोकसभा सीट जीतने के संबंध में सुझाव-मशविरे मांग रहे थे। बताया जा रहा है कि इसी दौरान जिला कांग्रेस सेवादल के ग्रामीण अध्यक्ष विजय साहू ने कुछ कहना चाहा। तभी कुटीर-ग्रामोद्योग एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री हर्ष यादव खड़े हो गए। उन्होंने नाराजगी भरे स्वर में कहा कि तुम बैठ जाओ। तुम भाजपा के लिए काम करते हो। हर्ष के ये बोलते ही मीटिंग में सनाका खिंच गया। कमलनाथ बोले कि मुझे भी मालूम है कि सागर में कई कांग्रेसी भाजपा का काम करते हैं। 

शहर अध्यक्ष से कहा, आप संगठन पर ध्यान दें

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री से चर्चा के दौरान जिला शहर कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष रेखा चौधरी ने कुछ सुझाव दिए। इस पर से मुख्यमंत्री ने कहा कि आप संगठन को मजबूत करें। मुझे सब पता है कि सागर में इतने सालों से विधानसभा-लोकसभा चुनाव क्यों हार रहे हैं। सर्वे में सबकुछ स्पष्ट हो चुका है।