मंत्री तो बनेंगे ही, निगेटिव क्यों सोचें: सपा, BSP और निर्दलीय बोले | MP NEWS

भोपाल। मंत्रियों के चयन को लेकर बवाल शुरू हो गया है। कांग्रेस विधायकों ने इस्तीफे की धमकी दी है परंतु सपा, बसपा और निर्दलीय विधायकों के बयान कांग्रेसी विधायकों से इतर हैं। उनका कहना है कि मंत्री तो बनेंगे ही। आज नहीं तो 7 दिन बाद। हम निगेटिव क्यों सोचें। बता दें कि वारासिवनी से निर्दलीय जीते प्रदीप जायसवाल को कैबिनेट मंत्री बनाया है। शेष किसी को मंत्रि पद नहीं दिया गया। जबकि इनकी कुल संख्या 7 है। इनके बिना सरकार बनना संभव नहीं थी। भोपाल के पत्रकार श्री राहुल शर्मा ने सभी से बातचीत की। पढ़िए किसने क्या कहा: 

राजेश शुक्ला / RAJESH SHUKLA, सपा, बिजावर (छतरपुर)

यह तो कांग्रेस को तय करना था कि मंत्री बनाना है या नहीं। जिसने समर्थन दिया उसे ही महत्व नहीं दिया। समान विचारधारा वाली पार्टियों पर कांग्रेस को सोचना चाहिए था। हमारा समर्थ तो जारी है। हम तो सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष के फैसले पर काम करेंगे। ये उनके लेवल का मामला है। हम उनके निर्णय के साथ हैं। 

रामबाई गोविंद सिंह / Rambai Govind Singh, बसपा, पथरिया (दमोह) 

मंत्री नहीं बनाने पर हम क्या कहेंगे। पर इतना जरूर है कि कांग्रेस को हम लोगों को मंत्री बनाना ही पड़ेगा। भले ही थोड़ा समय लगे। कांग्रेस में गुटबाजी की स्थिति है। कुछ नेता नहीं चाहते कि हम मंत्री बनें। बहनजी ने बिना शर्त समर्थन दिया है। जैसा वह कहेंगी वैसा किया जाएगा। हमारी तो कोई बात ही नहीं हुई। बहनजी से चर्चा हुई होगी। देखिए, मंत्री तो बनाना ही पड़ेगा। नहीं बनाया तो देखेंगे। पार्टी ही तय करेगी जैसा कहा जाएगा वैसा करेंगे।

संजीव सिंह / SANJEEV SINGH बसपा, (भिंड) 

बहनजी ने बिना शर्त समर्थन दिया था। मंत्री नहीं बनाना कांग्रेस का निर्णय है। अन्य पार्टियों के नेता तो इस पर नाराजगी भी जता चुके हैं। हां, पर कांग्रेस को इस दिशा में सोचना चाहिए। मंत्री नहीं बनाया तो भी समर्थन तो दे ही रहे हैं। बाकी पार्टी तय करेगी। हम तो जैसा आदेश होगा उसका पालन करेंगे।

सुरेंद्र सिंह / SURENDRA SINGH निर्दलीय, (बुरहानपुर) 

मंत्री नहीं बनाया पर अब बनाएंगे। पांच-छह दिन में फैसला हो जाएगा। मेरी बात हुई है। 2019 में लोकसभा चुनाव भी है। कांग्रेस को हमारी जरूरत है। हमें तो मंत्री बनाया ही जाएगा। समर्थन तो दिया ही है। जारी भी रहेगा। इसमें कोई सोचने वाली बात नहीं है। जब समर्थन दे रहे थे उस समय चर्चा हुई थी। आश्वासन दिया गया था। हम निगेटिव क्यों सोचें ? मंत्री तो बनना ही है , जनता का काम करेंगे। बातचीत हो चुकी है।
 

केदार डावर/ KEDAR DAWAR निर्दलीय, भगवानपुरा  (खरगोन)

हमें कहा गया है कि मंत्री बनाया जाएगा। वैसे गठन के समय ही बनाना चाहिए था।  कांग्रेस को समर्थन दिया है तो जारी भी रहेगा। इस बारे में कुछ सोचने का प्रश्न ही नहीं है। उस समय कांग्रेस को जरूरत थी तो समर्थन दिया था। कांग्रेस को सोचना था। मंत्री तो बनाएंगे यह तय है। पहले ही बना देते पर कुछ कारणों से नहीं बना पाए। अभी कहा है कि जल्द मंत्री बनाएंगे।