LOKSABHA CHUNAV HINDI NEWS यहां सर्च करें





बदला इतिहास,टूटी परंपरा, आज साल में दूसरी बार लाल किले पर हुआ ध्वजारोहण | NATIONAL NEWS

21 October 2018

नई दिल्ली। देश के प्रधानमंत्री 15 अगस्त को ही ऐतिहासिक लाल किले से राष्ट्रध्वज फहराते हैं लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी यह परंपरा तोड़कर साल में दूसरी बार आज (21 अक्‍टूबर) तिरंगा फहराया। दरअसल, 75 साल पहले 21 अक्टूबर 1943 के दिन सुभाष चंद्र बोस ने आज़ाद भारत की पहली अस्थाई सरकार बनाई थी, उन्‍हें पीएम की ये श्रद्धांजलि है। इस मौके पर आजाद हिंद फौज के सिपाही लाती राम और सुभाष चंद्र बोस के परिवार के सदस्य भी शामिल हुए।

यही नहीं, सुभाष चंद्र बोस और आजाद हिंद फौज की यादों को सहेजने के लिए पीएम मोदी अंडमान-निकोबार भी जाएंगे। पीएम इस यात्रा के दौरान सेलुलर जेल का भी निरक्षण करेंगे। जहां आजादी के परवानों को काला पानी की सजा देकर रखा जाता था।

पीएम मोदी ने बुधवार को इसकी घोषणा एक वीडियो संदेश से की। इस संदेश में पीएम मोदी ने बोस समेत उन शख्‍सियतों का जिक्र किया जिन्होंने स्वतंत्रता की लड़ाई में बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया। पीएम के मुताबिक कांग्रेस ने ऐसी शख्सियतों के योगदान को नजरअंदाज किया।  

अभी हाल ही पीएम मोदी ने हरियाणा के रोहतक में किसान नेता सर छोटूराम की 64 फुट ऊंची प्रतिमा का अनावरण किया था। अब 31 अक्टूबर को प्रधानमंत्री मोदी विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा "स्टैच्यू ऑफ यूनिटी" का उद्घाटन करेंगे। बता दें कि यह प्रतिमा देश के लौह पुरुष सरदार पटेल की है, जो गुजरात में बनी है। इस प्रतिमा के साथ ही श्रेष्ठ भारत भवन की भी शुरुआत की जाएगी।

माना जा रहा है कि इन महापुरुषों को याद कर पीएम मोदी राजनीतिक संदेश भी देना चाहते हैं। हालांकि कांग्रेस की ओर से अकसर इसकी आलोचना करते हुए आरोप लगाया जाता रहा है कि पीएम मोदी और बीजेपी उनके प्रतीक महापुरुषों को हथिया रहे हैं।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com



-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Suggested News

Loading...

Advertisement

Popular News This Week

 
-->