Advertisement

गुजरात में मप्र के लोगों पर नकाबपोश हमले कर रहे हैं, हजारों खदेड़ दिए | MP NEWS



भोपाल। इन दिनों मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश और बिहार के लोगों को गुजरात से भगाया जा रहा है। नकाबपोश लोग आकर हमले कर रहे हैं ताकि कोई वीडियो भी बनाए तो वो पकड़ में ना आ पाएं। लोग गिरोह बनाकर मप्र के मूल निवासियों के घरों में आ रहे हैं। अब तक 8000 से ज्यादा लोगों के गुजरात छोड़ने की खबर है। यह आंकड़ा सरकारी परिवहन माध्यमों का है। निजी माध्यमों से कितने लोग जान बचाकर भागे हैं, कोई आंकड़ा नहीं है। उनकी संपत्तियां और सामान गुजरात में ही छूट गया। मध्यप्रदेश की सरकार चुप है, क्योंकि गुजरात में भी भाजपा की सरकार है और गुजरात के पूर्व सीएम नरेंद्र मोदी अब भाजपा के सबसे ताकतवर नेता हैं। 

गिरोह बनाकर धमकाने आ रहे हैं लोग

अहमदाबाद के चांदलोडिया इलाके में रहने वाले देवेंद्र राठौड़ ने बताता कि कुछ स्थानीय लोग देर रात उनके घर पहुंचे और उन्हें गुजरात छोड़कर चले जाने के लिए कहा। दवेंद्र मध्यप्रदेश के भिंड जिले के रहने वाले हैं। देवेंद्र ने बताया कि उनके पड़ोसियों को भी गुजरात छोड़कर चले जाने की धमकी दी गई है। लेकिन उनका कहना है कि वही उत्तर भारतीय बड़ी संख्या में गुजरात से पलायन कर रहे हैं, जिनका यहां रहने के लिए कोई स्थाई बंदोबस्त नहीं है। 

नकाबपोश लोग हमले कर रहे हैं

मध्य प्रदेश के भिंड जिले में अपने गांव लौटने के लिए बस की प्रतीक्षा करने वाली 30 वर्षीय राजकुमारी ने कहा, 'गुरुवार की रात को भीड़ ने उस समय हमला किया जब मेरे बच्चे हमारे घर के बाहर लेन में खेल रहे थे। वे अभी भी सदमे में हैं। मैंने अपने 4 साल के बेटे को शांत करने के लिए डॉक्टर के पास ले गई।' भिंड के ही धर्मेंद्र कुशवाह ने कहा कि कुछ 1500 यूपी, बिहार और एमपी के प्रवासी पिछले कुछ दिनों चले गए हैं। 200 लोग आज गए। नकाब पहने लोगों ने उन्हें गुजरात छोड़ने के लिए कहा।

क्यों हो रहे हैं हमले

28 सितंबर को गुजरात के साबरकांठा के हिम्मतनगर कस्बे में 14 महीने की बच्ची से बलात्कार की घटना सामने आई थी। इस पूरे मामले में पुलिस ने बिहार से आए एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया था। यह व्यक्ति गुजरात में मजदूरी करता था। इस घटना के सामने आने के बाद गुजरात के निवासियों का गुस्सा आसमान पर है और लगातार उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और बिहार के लोगों पर हमले किए जा रहे हैं।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com