आचार संहिता उल्लंघन की शिकायत किस मोबाइल एप पर करें, यहां पढ़िए | ELECTION NEWS

07 October 2018

भोपाल। विधानसभा चुनाव-2018 की आचार संहिता लग चुकी है। इसी के साथ प्रदेश के सभी जिलों में धारा 144 भी लागू कर दी गई है। इस बार आचार संहिता में कुछ नए बदलाव किए गए हैं। जिनकी विस्तृत जानकारी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी (सीईसी) की अधिकृत वेबसाइट पर ली जा सकती है। सी-विजिल एप के माध्यम से आम नागरिक भी आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकेंगे। आचार संहिता लगने के बाबजूद भी जनता से जुड़े सीधे काम जैसे बंटवारा, नामांतरण, जाति प्रमाण-पत्र, नक्शा स्वीकृति जैसे काम होते रहेंगे। पुलिस महकमा की जवाबदेही रहेगी कि वह आचार संहिता के दौरान बाहर से आने जाने वाले लोगों का ब्यौरा प्रत्येक लॉज, धर्मशाला, होटल आदि से रोजाना लें।

जानिये किन कामों के लिए रहेगी छूट, इन कामों में परमिशन जरूरी 

शादी-ब्याह के दौरान आतिशबाजी करने, बारात निकालने सहित अन्य आयोजनों की परमिशन लेना होगी।दीपावली पर छोटे पटाखे, आतिशबाजी आदि का उपयोग कर सकेंगे। इस पर कोई रोक नहीं है। पारंपरिक आयोजन पहले की तरह ही होंगे, हालांकि इसकी सूचना प्रशासन को देना होगी। न्यायाधीश और सेना के अधिकारी, पुलिस, बैंकों के गार्ड और सुरक्षा के लिए बंदूक साथ रख सकेंगे। विशेष परिस्थितियों में देखते हुए निर्वाचन अधिकारी अन्य लोगों को भी छूट दे सकते हैं। 

केवल जनता के हित के काम होंगे, इन कार्यों पर लगी रोक 

नए निर्माण कार्यों के भूमिपूजन-लोकार्पण पर पूरी तरह से रोक लग गई है। आयोग द्वारा कहा गया है कि जनहित के काम परमिशन से होंगे, हालांकि यह स्पष्ट होना शेष हैं। रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लाउड स्पीकर पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। हथियार थाने में करना होगा जमा। डीलर के पास जमा करने पर पावती थाने में देना हाेगी। 

1घंटा 40 मिनट में होगी कार्रवाई 

सी-विजिल एप के माध्यम से आम नागरिक भी आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकेंगे। भारत निर्वाचन आयोग द्वारा निर्वाचन-2018 में इस बार सी विजिल एप का उपयोग किया जाएगा। यह नई चीज है। सी विजिल एप के माध्यम से आम नागरिक भी आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायत कर सकेंगे और शिकायत का निराकरण 100 मिनिट में दर्ज होगा। इस एप पर कोई भी व्यक्ति गोपनीय तरीके से निर्वाचन प्रक्रिया को दूषित करने वाली गतिविधियों, आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना फोटो एवं वीडियो के साथ बिना अपनी पहचान उजागर किए भेज सकेगा। 


निर्देश- सुझाव 

प्रत्येक मतदान केंद्र की निगरानी पहली बार सीसीटीवी कैमरों से होगी। इसके लिए जिला मुख्यालय पर मॉनीटरिंग सेंटर भी रहेगा। पार्टी और प्रत्याशी चुनाव प्रचार के लिए प्लास्टिक, पॉलीथिन आदि के मुकाबले प्रचार में ईको फ्रेंडली सामग्री का उपयोग करें। जिससे पर्यावरण का संरक्षण हो। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में एक मतदान केंद्र ऐसा रहेगा, जहां पर प्रत्याशियों के बूथ कार्यकर्ता समेत चुनावी ड्यूटी में लगे अधिकारी-कर्मचारी सिर्फ महिलाएं ही रहेंगी।
cVIGIL मोबाइल एप DOWNLOAD / INSTALL करने के लिए यहां क्लिक करें

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week