दुर्गा विसर्जन पर पुलिस का लाठीचार्ज, 27 से ज्यादा घायल, पुलिस ने बताया हिंदुओं में संघर्ष | mp news

Advertisement

दुर्गा विसर्जन पर पुलिस का लाठीचार्ज, 27 से ज्यादा घायल, पुलिस ने बताया हिंदुओं में संघर्ष | mp news

भोपाल। सीएम शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह के प्रभाव क्षेत्र विदिशा में बड़ी घटना हुई है। यहां पुलिस के लाठीचार्ज में 27 से ज्यादा लोगों के घायल होने की खबर आ रही है। लाठीचार्ज दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह के दौरान हुआ। इधर पुलिस का कहना है कि हिंदुओं के 2 संगठन में संघर्ष हुआ, पुलिस ने मामला शांत कराने के लिए बल प्रयोग किया। 

घटना शुक्रवार और शनिवार की दरम्यानी रात करीब 1.30 बजे की है। आरोप है कि प्रशासन के अधिकारियों ने भारी पुलिस बल के साथ आचार संहिता और कोलाहल अधिनियम का हवाला देते हुए दुर्गा प्रतिमा विसर्जन चल समारोह में डीजे, बैंडबाजे, माइक और ढपले बंद करवा दिए और उनमें तोड़फोड़ कर दी। जिस कारण स्वागत मंच पर भगदड़ मच गई और पुलिस ने भीड़ तो तितर-बितर करने के लिए कई झांकी संचालकों, उनके कार्यकर्ताओं और दर्शकों पर भी जमकर लाठियां भांजीं। इस पिटाई से 27 से अधिक लोग घायल हो गए जिनकी जिला अस्पताल में शनिवार को सुबह एमएलसी करवाई गई। 

इसके अलावा अज्ञात लोगों ने माधवगंज में श्री सनातन हिंदू उत्सव समिति और कोतवाली थाने के सामने बने हिंद युवा जागरण मंच के स्वागत मंच को भी तोड़ दिया गया। पुलिस का कहना है कि दोनों हिंदू संगठनों के आपसी विवाद के कारण ऐसा हुआ है। प्रशासन की इस जबरिया कार्रवाई के विरोध में हिंदू उत्सव समिति के पदाधिकारियों ने अपने हाथ खड़े करते हुए चल समारोह को बंद करवा दिया और झांकी संचालन का कार्यभार प्रशासन को सौंप दिया। 

एएसपी से कराएंगे पूरी जांच: एसपी कपूर 
झांकी संचालकों और उनके कार्यकर्ताओं की बेरहमी से पिटाई के मामले में एसपी विनीत कपूर का कहना है रात में कई स्थानों पर शराब के नशे में जो उपद्रवी तत्व हंगामा कर रहे थे, उन्हें मजबूरी में तितर-बितर करने के लिए हल्का बल प्रयोग किया गया था। यदि इस पिटाई से कोई घायल हुआ है तो एएसपी से इस मामले की पूरी जांच करवाई जाएगी और नियमानुसार कार्रवाई भी होगी। धारा 144 के उल्लंघन के मामले में 3-4 लोगों को चिन्हित किया गया है। उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। सीसीटीवी कैमरों के जरिए अन्य उपद्रवियों की भी पहचान की जा रही है। कई झांकियों की हाइट ज्यादा थी। इस कारण हाई टेंशन लाइन से जानमाल का खतरा था।

सुबह 4.30 प्रशासन ने चल समारोह निकलवाया
शुक्रवार और शनिवार की दरम्यानी रात पिटाई और हंगामे के कारण रात 1.30 ये 3 घंटे बाद अल सुबह करीब 4.30 बजे तक शहर में करीब 280 से अधिक झांकियों का संचालन बंद रहा। इसके बाद प्रशासन ने फिर से बैंडबाजे बजाने की अनुमति दी और चल समारोह भी खुद निकाला। इस कारण शनिवार दोपहर तक प्रतिमाओं का विसर्जन चलता रहा। प्रशासन की कार्रवाई के विरोध में हिंदू संगठनों ने आक्रोश जताया है।

श्री सनातन हिंदू उत्सव समिति के अध्यक्ष संजीव शर्मा का कहना है कि प्रशासन ने जबरन माइक बंद करवा दिए। इससे पूरे कार्यक्रम में अव्यवस्था फैल गई। इस कारण लोग ठीक से झांकियों का संचालन नहीं कर सके। वहीं हिंदू उत्सव समिति ने एसडीएम से और हिंद युवा जागरण मंच ने एसपी से मिलकर तोड़फोड़ के मामले में निष्पक्ष जांच करवाने की मांग की है लेकिन कोई मामला दर्ज नहीं हुआ। पुलिस ने दोनों संगठनों से शिकायती आवेदन भी नहीं लिए हैं। मौखिक तौर पर ही समझाइश दी गई है। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com