AAP के पदाधिकारियों तक को नहीं पता, उनके प्रत्याशी का नाम क्या है | MP ELECTION NEWS

20 September 2018

भोपाल। आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक और सीएम कैंडिडेट आलोक अग्रवाल के लिए शर्मसार करने वाली खबर है। पहला विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही पार्टी का नेटवर्क इतना खराब है कि पार्टी के पदाधिकारियों तक को नहीं पता कि उनके क्षेत्र के अधिकृत प्रत्याशी का नाम क्या है। कैबिनेट मंत्री गोपाल राय के स्टिंग आॅपरेशन में इसका खुलासा हुआ और फिर उन्होंने आलोक अग्रवाल से इस्तीफा मांगने के बजाए प्रत्याशियों की क्लास लगा डाली। 

बता दें कि आम आदमी पार्टी ने एक के बाद एक कई किस्तों में प्रत्याशियों की लिस्ट घोषित की। किसी भी संगठन के सामान्य नियम होते हैं कि वो महत्वपूर्ण फैसलों से पार्टी कार्यकर्ताओं को अवगत कराएं। आम आदमी पार्टी तो WiFi पर चलने वाली HiFi पार्टी है। बड़ा सवाल यह है कि क्या आलोक अग्रवाल के पास अब तक ऐसा कोई साधन नहीं है जिससे वो सभी कार्यकर्ताओं को एक साथ पार्टी के फैसलों से अवगत करा सकें। वो तो अच्छा हुआ मंत्री राय ने मंडल अध्यक्षों से यह नहीं पूछा कि पार्टी का सीएम कैंडिडेट कौन है, यदि सवाल कर लिया होता तो संभव है आलोक अग्रवाल का हिसाब किताब बुधवार को ही होता जाता। 

मंडल अध्यक्षों को लगाया फोन
जबलपुर के प्रत्याशी आशीष सिंगरहा से बुलाकर राय ने पूछा कि आपके विस क्षेत्र में कितने घर हैं और कितने घरों के लोग आपको जानते होंगे और आपने कितने मंडल अध्यक्ष बना दिए। उन्हें जानकारी दी गई कि करीब 25000 लोग जानते होंगे और 185 मंडल अध्यक्ष बना दिए हैं।

इसके बाद राय ने उन्हें दी गई मंडल अध्यक्षों की सूची में से फोन लगवाया और पूछा कि क्या आप अपने प्रत्याशी को जानते हैं। इस पर मंडल अध्यक्ष ने जवाब दिया कि वे उन्हें जानते ही नहीं हैं। इसके बाद राय ने सिंगराह से कहा कि मंडल प्रत्याशियों को बता तो दिया होता कि वे प्रत्याशी बन गए हैं। जब उन्हें मंडल अध्यक्ष ही नहीं पहचानते तो वोटर कैसे पहचानेंगे। 

जमानत जब्त हो जाएगी, संभल जाओ
राय ने बैतूल प्रत्याशी को फटकार लगाई और कहा कि मंडल अध्यक्ष से संपर्क में रहो नहीं तो चुनाव वाले दिन वह पंजे की सीट पर बैठा मिलेगा। मंडल अध्यक्ष ऐसा हो जो कांग्रेस-भाजपा वालों के सामने कॉन्फिडेंस से बैठे, नहीं तो जमानत भी जब्त हो जाएगी। उन्होंने प्रत्याशियों पर तंज कसते हुए कहा कि कई ने अपने गुरू ढूंढ लिए हैं, ये ऐसे गुरू हैं जो भाजपा-कांग्रेस से चुनाव लड़ चुके हैं और हार गए।

झूठ बोला राय ने डांटा
कसरावद के प्रत्याशी शैलेष चौबे ने राय को बताया कि उनके इलाके में 30 हजार घर हैं। करीब ढाई लाख वोटर हैं और उन्हें 40 पंचायत के लोग नाम से जानते हैं। इस पर राय ने कहा कि आपको नाम से जानते हैं ? गांव में बहुत लोग ऐसे हैं जो नाम से अरविंद केजरीवाल, मोदी और राहुल को भी नहीं जानते। मध्यप्रदेश में सर्वे हो चुका है। चौबे ने उन्हें बताया कि उन्होने 18 मंडल अध्यक्ष बनाए हैं। इस पर राय ने उन्हें डांटते हुए कहा कि आप इतने पुराने हो, अब तक कर क्या रहे थे ? इलेक्शन को मजाक बना रखा है। 
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com

और अधिक समाचारों के लिए अगले पेज पर जाएं, दोस्तों के साथ साझा करने नीचे क्लिक करें

-----------

अपनी पसंदीदा श्रेणी के समाचार पढ़ने कृपया नीचे दिए गए श्रेणी के ​बटन पर क्लिक करें

Loading...

Advertisement

Popular News This Week