Loading...

एट्रोसिटी एक्ट: 80 हजार करणी सैनिक, काले कपड़ों में सड़क पर उतरे | MP NEWS

उज्जैन। एट्रोसिटी एक्ट के खिलाफ राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना के करीब 80 हजार कार्यकर्ता काले कपड़ों में सड़क पर उतरे और शक्तिप्रदर्शन किया। इसी के साथ एससी/एसटी एक्ट के खिलाफ श्री राजपूत करणी सेना के प्रदेश स्तरीय आंदोलन की शुरुआत हो गई। बता दें कि सीएम शिवराज सिंह की जन आशीर्वाद यात्रा की शुरूआत भी यहीं से हुई थी। 

80 हजार के शामिल होने का दावा

उज्जैन के नानाखेड़ा स्टेडियम से सुबह साढ़े 11 बजे सवर्ण वाहन रैली निकाली गई, जिसमें हजारों लोगाें के शामिल होने का दावा किया गया है। रैली में कई  लोगों ने विरोध स्वरूप काले कपड़े पहन रखे थे। उज्जैन रवाना होने से पहले करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने इंदौर के विजयनगर में प्रदर्शन किया। करणी सेना के कार्यकर्ताओं का कहना था कि संविधान में हर भारतीय नागरिक को समानता का अधिकार है, लेकिन एट्रोसिटी एक्ट इस अधिकार के विपरीत है। यह एक्ट सवर्ण, ओबीसी, अल्पसंख्यक और एससी-एसटी समाज के बीच खाई पैदा करने वाला है। इसके कारण देशभर में असंतोष है। आरक्षण आर्थिक आधार पर हो जाति आधार पर नहीं। जातिगत आरक्षण के कारण कई समुदायों को अपने अधिकारों से वंचित होना पड़ रहा है।

यहां से निकली रैली

रैली नानाखेड़ा स्टेडियम, टावर चौराहा, फ्रीगंज ओवर ब्रिज, चामुंडा चौराहा, देवासगेट, मालीपुरा, दौलतगंज, नई सड़क, कंठाल, तेलीवाड़ा, निकास, बुधवारिया, फाजलपुरा, आगर रोड होते हुए चिमनगंज मंडी पहुंची। रैली में शामिल होने के लिए उज्जैन के अलावा इंदौर, रतलाम, नीमच, मंदसौर, देवास, शाजापुर आगर-मालवा सहित दूर-दूर से लोग आए थे।

सांसद को गांव में घुसने नहीं देंगे

करणी सेना के शैलेंद्र झाला ने कहा - सांसद डॉ. चिंतामणि मालवीय ने कहा था कि आरक्षण कोई खत्म नहीं कर सकता है। हम उन्हें सवर्णों के गांवों में घुसने नहीं देंगे। मालवीय ने कहा- मैं सबके साथ और सबके विकास में विश्वास रखता हूं। क्षत्रिय महासभा के अनिल सिंह चंदेल ने मालीपुरा में रैली का स्वागत किया। इधर, शहामत खान ने बताया कि मुस्लिम समाज के लोग भी रैली में शामिल हुए।
मध्यप्रदेश और देश की प्रमुख खबरें पढ़ने, MOBILE APP DOWNLOAD करने के लिए (यहां क्लिक करेंया फिर प्ले स्टोर में सर्च करें bhopalsamachar.com